तेजस्वी ने ट्वीट कर CM नीतीश की कार्यशैली पर उठाया सवाल

img

पटना, बुधवार, 28 अप्रैल 2021। बिहार में कोरोना महामारी के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है। बिहार में अब तक 85 हजार से अधिक लोगों के कोरोना पॉजिटिव होने के मामले सामने आ चुके है। इसी के साथ वहां मौतों के आंकड़ों में भी वृद्धि होती दिखाई है। वहीं अस्पतालों में ऑक्सीजन की किल्लत और कुव्यवस्थाओं की खबरें भी लगातार सामने आ रही हैं। ऐसे में बिहार में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने सीएम नीतीश कुमार को कोरोना के हालात बिगड़ने के लिए जिम्मेदार ठहराया हैं। उन्होंने बुधवार को एक के बाद एक कई ट्वीट किए और सीएम नीतीश की कार्यशैली पर सवाल उठाया। 

तेजस्वी यादव ने अपने ट्वीट में लिखा, आदरणीय नीतीश जी, आपसे विनम्र निवेदन है कि पिछले साल वाली गलती दोबारा मत करिए। आंकड़ो में हेराफेरी कर छवि बचाने से ज़्यादा जरूरी लोगों का स्वास्थ्य है। आप जांच घटा रहे है लेकिन Positivity रेट बढ़ गया है। जांच कम होने से संक्रमण की वास्तविकता नहीं मालूम होगी, उसका फैलाव बढ़ता जाएगा। उन्होंने आंकड़ों को प्रस्तुत कर आगे लिखा, एक साल बाद भी बिहार की कुल कोरोना जांच में Anti-gen tests की संख्या 65-70 प्रतिशत है जबकि RT-PCR सबसे कम मात्र 30-35 प्रतिशत ही है। 

RT-PCR जांच की रिपोर्ट आने में 14-15 लग रहे हैं। Asymptomatic मरीज़ों की जांच ही नहीं हो रही है। ऑक्सिजन, वेंटिलेटर की छोड़िए बिहार अभी जांच के स्तर पर ही जूझ रहा है। तेजस्वी ने आगे लिखा, नीतीश जी, Caseload कम दिखाने के चक्कर में आप बिहार का नुक़सान कर रहे हैं। वाइरस का चेन बढ़ता जा रहा है. कम आंकड़े दिखाने की वजह से केंद्र से ऑक्सीजन, वैक्सीन, इंजेक्शन Remdesivir, O2 Concentrators, वेंटिलेटर इत्यादि अन्य जरूरी सहायता भी नहीं मिल रही है और आप कुछ बोल भी नहीं रहे। 

राजद नेता ने लिखा, मुझे ये समझ नहीं आता कि नीतीश जी की तथाकथित हाई लेवल क्राइसिस ग्रूप की मीटिंग में कोरोना बचाव पर चर्चा होती है या छवि बचाव पर। अभी तक एक भी ऐसा ठोस कदम या निर्णय नहीं लिया गया है जिससे कोरोना संक्रमण को कम किया जाए, मरीज़ों का उचित इलाज हो सके, अस्पतालों का क्षमतावर्धन हो सके।

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement