कांग्रेस नेताओं की चुनौती- PM मोदी से कड़े सवाल पूछे जाएंगे, हमें गिरफ्तार करें

img

नई दिल्ली, सोमवार, 17 मई 2021। कांग्रेस नेताओं ने प्रधानमंत्री की आलोचना करने वाले पोस्टर कथित तौर पर लगाने को लेकर कुछ लोगों के खिलाफ पुलिस कार्रवाई की निंदा की और सरकार को चुनौती दी कि वह कोविड-19 के टीकों के निर्यात पर सवाल उठाने को लेकर उन्हें गिरफ्तार करे। राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस नेताओं ने ट्विटर पर अपनी प्रोफ़ाइल तस्वीरें ऐसे पोस्टरों से बदल दीं जिसमें सवाल किया गया है कि कोविड के टीके विदेश क्यों भेजे गए। विपक्षी दल ने कहा कि अगर लोगों को टीके, दवाएं और ऑक्सीजन नहीं मिली तो प्रधानमंत्री से कड़े सवाल पूछे जाएंगे। गांधी ने एक ट्वीट में एक पोस्टर की तस्वीर साझा की जिसमें लिखा है ‘‘मोदी जी, आपने हमारे बच्चों की वैक्सीन (टीके) को विदेश क्यों भेज दिया?’’ गांधी ने लिखा, ‘‘मुझे भी गिरफ्तार करो।’’ राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में टीके के मुद्दे पर पोस्टर लगाने के आरोप में दिल्ली पुलिस द्वारा कुछ लोगों को गिरफ्तार किए जाने के बाद यह चुनौती सामने आई है। दिल्ली पुलिस ने भी कई प्राथमिकी दर्ज की और प्रधानमंत्री की आलोचना करने वाले पोस्टर चिपकाने के आरोप में लोगों को गिरफ्तार किया। 

कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने प्रधानमंत्री और गृह मंत्री को उन्हें गिरफ्तार करने की चुनौती देते हुए कहा कि वह अपने परिसर की दीवार पर ऐसे पोस्टर लगा रहे हैं। उन्होंने सवाल किया, ‘‘प्रधानमंत्री के खिलाफ आलोचनात्मक पोस्टर लगाना अब एक अपराध है? क्या भारत अब मोदी दंड संहिता द्वारा चलाया जा रहा है? क्या दिल्ली पुलिस एक भयंकर महामारी के बीच इतनी बेरोजगार है।’’ रमेश ने चुनौती दी, ‘‘मैं कल अपने परिसर की दीवार पर पोस्टर लगा रहा हूं। आओ मुझे ले जाओ।’’ कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि प्रधानमंत्री से सवाल पूछे जाएंगे जब लोगों को टीके, दवाएं और ऑक्सीजन नहीं मिलेगी, जिनकी कोविड से लड़ने के लिए सख्त जरूरत है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं आपको मुझे गिरफ्तार करने की चुनौती देता हूं। मेरा टीका कहां है, मेरी ऑक्सीजन कहां है? हम आपसे सवाल पूछते रहेंगे।’’ उन्होंने आरोप लगाया कि लोगों को ‘‘सवाल पूछने के लिए’’ गिरफ्तार किया जा रहा है। खेड़ा ने कहा कि ज्यादातर मौतों को टाला जा सकता था और लोग कोविड के कारण नहीं, बल्कि महामारी से निपटने में कुप्रबंधन के कारण मर रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार ने मानव निर्मित कमी उत्पन्न की है और चारों ओर अराजकता है। उन्होंने कहा, ‘‘भारत सरकार ने संकट का सही तरीके से प्रबंधन नहीं किया।’’ 

कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया कि जब टीका निर्माताओं के साथ बातचीत करने या टीका नीति बनाने की बात आयी तो सब कुछ ‘‘केंद्रीकृत और व्यक्तिगत’’ था। उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री मोदी चाहते थे कि वे टीका गुरु के रूप में जाने जाएं लेकिन अब पूरी दुनिया और हर भारतीय कठिन सवाल पूछ रहे हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘आप ऐसी व्यवस्था नहीं बना सकते कि केंद्रीकृत निर्णय लेने की व्यवस्था हो और जिम्मेदारी विकेंद्रीकृत हो।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमने जो देखा वह छवि प्रबंधन है, जो इस सरकार का सबसे दुर्भाग्यपूर्ण पहलू है। यह देश के लिए घातक है।’’ केंद्र द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में दिशा-निर्देश जारी करने पर, खेड़ा ने कहा कि वे गांवों में वायरस फैलने के बहुत बाद आए हैं। 

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement