भुजंगासन से यूरिक एसिड के कारण होने वाली बीमार‍ियों में भी मिलता है फायदा, जानें कैसे करें

img

यूरिक एसिड एक केमिकल (अपशिष्ट उत्पाद) है जो शरीर में प्यूरीन के अंतिम ऑक्सीकरण(ब्रेकडाउन) द्वारा निर्मित होता है। यह ब्लड में ले जाया जाता है और मूत्र के माध्यम से किडनी द्वारा उत्सर्जित होता है। शरीर में यूरिक एसिड का निर्माण काफी सामान्य है क्योंकि यह फूड मेटाबॉलिज्म में एक आवश्यक पदार्थ है। यूरिक एसिड एक एंटीऑक्सीडेंट के रूप में कार्य करने के लिए जाना जाता है और हमारे रक्त वाहिकाओं के अस्तर को नुकसान से बचाने में मदद करता है। लेकिन, ब्लड में यूरिक एसिड का उच्च स्तर हानिकारक हो सकता है। यूरिक एसिड का स्तर सही डाइट, वॉक, स्वीमिंग और योग जैसे व्यायाम की मदद से कम किया जा सकता है।

योग तीन तरीकों से यूरिक एसिड के स्तर को कम करने में मदद कर सकता है:

  • वजन नियंत्रण करता है: योगा आसानी से वजन कम करने में मदद कर सकता है। यदि आप बहुत तेजी से वजन कम करते हैं तो प्यूरिन्स आपके जोड़ों को प्रभावित कर सकते हैं। इस वजह से आपके लिए योगा फायदेमंद होता है क्योंकि यह धीरे-धीरे वजन कम करता है।
  • योगा करने से जोड़ों का दर्द कम करता है। साथ ही शरीर के लचीलेपन को भी बढ़ाता है। योगा ब्लड सर्कुलेशन को भी बेहतर करता है जिससे प्यूरिन्स जोड़ों में जाकर एकत्रित नहीं होती है और दर्द का कारण नहीं बनती है।
  • योगा आपके शरीर को यूरिक एसिड के कारण होने वाली समस्याओं से बचाता है।

यूरिक एसिड के लिए भुजंगासन फायदेमंद होता है-

  • इस आसन को करने के लिए आप योगा मैट पर पेट के बल लेट जाएं। इसके बाद दोनों हाथों को आगे की तरफ करते हुए सिर को पीछे की तरफ धीरे-धीरे ले जाएं। अब हाथों पर हल्का दबाव देते हुए पूरे शरीर को थोड़ी देर ऊपर की तरफ रखें। इस अवस्था में लगभग 60 सेकंड तक बनें रहें।

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement