बदलते मौसम में होने वाली एलर्जी से करें बचाव, ये घरेलू नुस्खे दिलाएंगे आराम

img

बदलते मौसम में अक्सर पराग-कणों के कारण एलर्जी की शिकायत होती है। एलर्जी एक ऐसी समस्या है, जो अक्सर हमें परेशान करती है। यह किसी भी खाद्य पदार्थ, कपड़ों, मौसम के बदलावों या आनुवंशिकता की वजह से हो सकती है। धूल-मिट्टी, धुआं, पालतू पशु जैसे कुत्ता, बिल्ली, खरगोश के अलावा फूलों के पराग-कण या अलोपैथिक दवाओं के रिएक्शन से किसी को भी यह समस्या हो सकती है। ऐसे में समय रहते ही सजग होने की जरूरत है। अक्सर हम एलर्जी को बदलते मौसम से जुड़ी मामूली समस्या समझकर नजरअंदाज कर देते हैं, मगर कई बार हल्की समस्या कई गंभीर बीमारियों का सबब बन जाती है।

एलर्जी के सामान्य लक्षण : सर्दी-जुकाम, खुजली और सिरदर्द, इसके प्रमुख लक्षण हैं। कंजंक्टिवाइटिस एलर्जी धूल, धुएं, कान्टैक्ट लैंस और सौंदर्य प्रसाधनों के इस्तेमाल से हो सकती है। इससे आंखों में लाली, पानी आना, जलन और खुजली जैसे लक्षण देखने को मिलते हैं। कुछ लोगों को पूरे शरीर में एलर्जी हो जाती है। इसके अलग-अलग लक्षण देखने को मिलते हैं। जैसे पेट में दर्द, उल्टी आना, त्वचा पर रैशेज आदि। स्किन एलर्जी में त्वचा पर लाल रंग के रैशेज, खुजली, चकत्ते और दाने निकलना इसके प्रमुख लक्षण हैं।

ऐसे करें बचाव : 

  • एलर्जी से बचने के लिए फ्लैक्स के बीज से प्राप्त होने वाले प्राकृतिक फैटी एसिड काफी मददगार साबित होते हैं। रेशा बनाने वाले पदार्थ जैसे कि दूध, दही, प्रोसेस्ड गेहूं और चीनी से परहेज करें। अदरक, लहसुन, शहद और तुलसी एलर्जी से बचाव करते हैं। 
  • अगर आपको धूलकणों या धागे के रेशों से एलर्जी है तो हाईपो एलर्जिक बिस्तर खरीदें। 
  • आसपास का माहौल धूल और प्रदूषण मुक्त रखें। 
  • सीलन भरे कोनों में फफूंद और परागकणों को साफ करें। 
  • बंद नाक और साइनस से आराम के लिए स्टीम इनहेलर का प्रयोग करें।

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement