कश्मीर के हालात बेहद खराब बताने वाली शहला राशिद पर विवाद, सुप्रीम कोर्ट में शिकायत दर्ज

img

नई दिल्ली, सोमवार, 19 अगस्त 2019। जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 हटाने बाद कुछ दिन धारा 144 लगाई गई लेकिन अब जम्मू-कश्मीर में हालात सामान्य हो रहे है। बच्चे स्कूल जा रहे हैंष लेकिन फिर भी कुछ लोग ऐसे हैं जो कश्मीर को लेकर झूठी अफवाहें फैला रहे हैं। जेएनयू छात्रा और पूर्व छात्र संघ लीडर शहला राशिद कश्मीर पर किए गए विवादित ट्वीट के बाद लगातार घिरती नजर आ रही हैं। सेना ने शहला के आरोपों को खारिज करते हुए इसे तथ्यहीन बताया और अब उनके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में आपराधिक शिकायत दर्ज करवाई गई है। वकील अलख आलोक श्रीवास्तव ने सर्वोच्च न्यायाल को दी गई गई अपनी शिकायत में झूठ फैलाने और गुमराह करने का आरोप लगाते हुए शहला की तत्काल गिरफ्तारी की मांग की है। शहला ने कश्मीर में हालात बेहद खराब होने का दावा करते हुए रविवार को कई ट्वीट किए थे। 

शहला राशिद खुद भी कश्मीरी हैं और मूल रूप से श्रीनगर की रहने वाली हैं। आर्टिकल 370 हटने के बाद से ही वह ट्विटर पर सरकार के खिलाफ लगातार सक्रिय हैं। रविवार को शहला ने एक के बाद एक कई ट्वीट कर फर्जी दावा किया कि कश्मीर में हालात चिंताजनक है। सेना और पुलिस के लोग आम नागरिकों के घर घुस रहे हैं और उन्हें सताया जा रहा है। उन्होंने शोपियां में सुरक्षाबलों द्वारा कुछ लोगों को जबरन हिरासत में लेने और उन्हें प्रताड़ित करने का आरोप लगाया। अब सुप्रीम कोर्ट में वकील अलख आलोक श्रीवास्तव ने याचिका दाखिल कर शहला की तत्काल गिरफ्तारी की मांग की है। याचिकाकर्ता का कहना है कि शहला कश्मीर के हालात को लेकर झूठ फैला रही हैं। वह नफरत फैलाने की साजिश में शामिल हैं, इसलिए उनकी गिरफ्तारी जरूरी है। 

साथ ही सुरक्षाबलों पर लगाए आरोपों के साथ ही कश्मीर की स्थिति को लेकर किए उनके ट्वीट पर सेना की ओर से भी प्रतिक्रिया आई है। सेना ने शहला के सारे आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि ये बेबुनियाद और तथ्यहीन दावे हैं, जिनमें कोई सचाई नहीं है। सैन्य बलों और प्रशासन का कहना है कि कश्मीर में स्थिति शांतिपूर्ण हैं और हालात नियंत्रण में है। श्रीनगर में आज से स्कूल भी खुल गए हैं और सरकारी दफ्तरों में भी कामकाज हो रहा है। 

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement