पूर्ववर्ती सरकार के समय बन्द किये गये स्कूलों को पुन: खोला जायेगा- डोटासरा

img

जयपुर। शिक्षा राज्य मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा ने गुरूवार को विधानसभा में आश्वस्त किया कि पूर्ववर्ती सरकार ने जिन विद्यालयों को बन्द कर दिया था, उनमें जो विद्यालयों निर्धारित मानदण्ड पूर्ण करते है उन स्कूलों को पुन: खोला जायेगा। डोटासरा प्रश्नकाल में विधायकों की ओर से इस सम्बन्ध में पूछे गये पूरक प्रश्नों का जवाब दे रहे थे। उन्होंने बताया कि पूर्ववर्ती सरकार ने जो स्कूल बन्द किये थे उनके बन्द करने के कारणों में बताया गया कि राज्य के 39 हजार राजस्व गांवों में 46 हजार 324 विद्यालय संचालित है लेकिन कुछ विद्यालय निर्धारित मानदण्डों को पूर्ण नहीं करते तथा वांछित मात्रा में छात्रों की संख्या नही होने के कारण बन्द किये गये। जो स्कूल बन्द किये गये उनके बारे में बताया कि  28 हजार 13 विद्यालयों में छात्रों की संख्या 30 से कम पाई गई तथा 342 विद्यालयों में जीरों नामांकन पाया गया।        

उन्होंने बताया कि जो आर.टी.ई नाम्र्स है उनमें कई भी नहीं लिखा गया है कि छात्रों की संख्या कितनी होनी। चाहिए। इन नियमों के अनुसार प्राथमिक विद्यालय एक किलोमीटर की परिधी क्षेत्र में एवं उच्च प्राथमिक विद्यालय दो किलोमीटर की परिधि क्षेत्र में होने चाहिए। उन्होंने यह भी अवगत कराया कि जो 22204 विद्यालयों पिछली सरकार ने बन्द किये  थे, उनमें से 2450 विद्यालयों को तो स्वंय ने ही गलत मानते हुए पुन: खोल दिया था। उन्होंने बताया कि झालावाड़ जिले में भी बन्द किये गये 441विद्यालयों में से 38 को पुन: चालू कर दिया गया।      

शिक्षा राज्य मंत्री ने बताया कि हमारी सरकार ने 22 जनवरी 2019 को आर.टी.ई नाम्र्स के संबंध में एक परिपत्र जारी कर इन बन्द विद्यालयों को शुरू करने हेतु दो स्तरीय उपखण्ड अधिकारी सीपीओ, एसीजीओं,एसीपीओ द्वितीय एवं वहां के स्थानीय जनप्रतिनिधी सहित सबकी राय से सुझाव मांगे गये है। इन सुझावों को जिला कलेक्टर के स्तर पर गठित समिति में जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक एवं जिला शिक्षा अधिकारी प्राथमिक द्वारा समीक्षा की जायेगी।          

उन्होंने बताया कि अब तक इन समितियों के पास माध्यमिक शिक्षा के 1511 एवं प्राथमिक शिक्षा के स्कूलों के 1324 प्रस्ताव आये है। उन्होंने बताया कि इन सब प्रस्तावों का परीक्षण किया जा रहा है तथा हम आर.टी.ई नाम्र्स को आधार मानकर जो विद्यालय इन्हें पूर्ण करते है तथा समिति सिफारिश करती है तो ?से बन्द स्कूलों को पुन: शुरू किया जायेगा। इससे पहले विधायक नरेन्द्र नागर के मूल प्रश्न के जवाब में बताया कि वर्ष 2014 से दिसम्बर, 2017 समानीकरण एवं एकीकरण के तहत समीपस्थ विद्यालयों में मर्ज किया गया था, उन्होंनें जिलवार संख्यात्मक सूची सदन की मेज पर रखा। उन्होंने बताया कि सत्र2014-15 से 2017-18 तक आर.टी.ई. नाम्र्स के विपरीत समन्वित किये गये विद्यालयों की समीक्षा हेतु पत्रांक पं. 14(4)शिक्षा-1/  एकी./2014/पार्ट (2016) दिनांक 22 जनवरी 2019 द्वारा ब्लॉक एवं जिला स्तर पर गठित कमेटी से समीक्षा करवाकर प्रस्ताव प्राप्त किये जा रहे है। इन प्रस्तावों की समीक्षा उपरान्त चिन्हित विद्यालयों को पर्याप्त नामांकन की सम्भावनाओं को ध्यान में रखते हुए गुणावगुण के आधार पर पुन: प्रारम्भ करने का नीतिगत निर्णय लिया जा सकेगा।               
 

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement