युवक ने यहां की बिना दुल्हन के शादी! जानिए क्या है मामला

img

चंपलानार। अक्सर देखा जाता है कि माता पिता अपनी संतान की हर ख्वाहिश को पूरा करने के लिए हर संभव प्रयास करते हैं। अपनी संतान के चेहरे पर खुशी लाने के लिए वो दुनिया में मुश्किल काम को भी करने को तैयार हो जाते है चाहे इसके लिए उन्हें कुछ भी करना पडे। गुजरात में एक पिता ने अपने 27 साल के पुत्र की ऐसी ही एक ख्वाहिश पूरी की है। 

दरअसल, गुजरात में एक शादीचर्चा का विषय बनी हुई है। धूम-धाम से शादी तो हुई लेकिन सिवाय दुल्हन के सब कुछ था। जी हां, ये अनोखी शादी 10 मई को साबरकांठा से 22 किलोमीटर दूर स्थित चंपलानार में हुई। दरअसल, 27 साल के अजय बरोट की इच्छा थी कि उनकी शादी बहुत धूम-धाम से हो। अजय के पिता ने उसकी इच्छा को पूरा भी किया।  शादी में 200 से ज्यादा लोग जुटे। सारी रस्में निभाई गईं। बारात निकली। नाच-गाना हुआ। बस अगर कुछ कमी थी, तो वह दुल्हन की। दुल्हे अजय बरोट की शादी का रिश्तेदारों और स्थानीय लोगों ने खूब आनंद लिया।

बरात से पहले यहां गरबा का आयोजन किया गया। इसके बाद दूल्हा शेरवानी पहनकर सजधज कर शादी के लिए तैयार हुआ और यह शादी संपन्न हुई। दरअसल अजय लर्निंग डिसेबिलिटी से पीडि़त है। उम्र के हिसाब से अजय का दिमाग विकसित नहीं हुआ है। अजय को बचपन से ही शादी का शौक था। बचपन से ही अजय जब भी किसी की शादी देखता तो घर वालों से यही पूछता कि मेरी शादी कब होगी। किसी भी शादी को देख अजय की बार-बार यही इच्छा जताते देखकर अजय के परिवार वालों ने अंतत: उसकी शादी करने का फैसला ले ही लिया। लेकिन परेशानी यह थी कि अजय के लिए दुल्हन कैसे मिलेगी। आखिरकार अजय के घरवालों ने बगैर दुल्हन के ही अजय की शादी करने का फैसला किया। साथ यह भी तय किया कि बगैर दुल्हन के होने वाली इस शादी में गुजराती समाज के सभी रीति-रिवाजों का पालन किया जाएगा। अजय के पिता के मन में बेटे की शादी के बाद यह दुख था कि शादी में दुल्हन की कमी रह गई। 

मीडिया से बातचीत में अजय के पिता ने बताया कि अजय की मां का देहांत बहुत पहले हो गया था। उस वक्त अजय बच्चा ही था। थोड़ा बड़े होने पर पता चला कि अजय ‘स्पेशल चाइल्ड’ है। उम्र के हिसाब से उसका दिमाग विकसित नहीं हो रहा था।  इसके बावजूद वह हर शादी को देख अपनी शादी की बात करता था, जबकि अजय को देखते हुए कोई भी उसे अपनी लडक़ी देने को तैयार नहीं था। ऐसे में अपने परिवार वालों से सलाह-मशविरा करने के बाद हमने अजय की शादी करने का निर्णय किया। भले ही दुल्हन न हो, लेकिन हमने सोच रखा था कि सारी रस्में होंगी और पूरी भव्यता के साथ कार्यक्रम होंगे। अब अपने बेटे की इच्छा पूरी करने के बाद मुझे बहुत खुशी हो रही है।

 

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement