तोते से ऐसा प्रेम, मरने के बाद करवाया ये काम

img

इंसान की पशु-पक्षियों से प्रेम करने की कहानियां आपने बहुत सुनी होंगी। इंसान घर में जो पालता है उससे बहुत लगाव हो जाता है। ऐसा ही दिलचस्प नजारा हाल ही देखने को मिला जब एक तोते की मौत के बाद मालिक ने उसकी तेरवहीं करवाई। इतना हीं नहीं इस तेरवहीं पर आसपास के लोगों के साथ-साथ अपने रिश्तेदारों को भी भुलाया। अमरोहा में एक व्यक्ति ने अपने प्रिय तोते का अंतिम संस्कार कर तेरहवीं भी कराई। इस तोते की तेरहवीं भोज में रिश्तेदारों के साथ वहां के आसपास लोग शामिल हुए। इसके बाद से इस व्यक्ति की चारों ओर चर्चा हो रही है।

दरअसल, अमरोहा के हसनपुर गांव में पंकज कुमार मित्तल रहते हैं।  पंकज पेशे से शिक्षक हैं उन्हें जानवरों से बहुत लगाव है। दरअसल, 5 मार्च की सुबह अचानक उसकी मौत हो गई। तोते की मौत से परिवार शोक में डूब गया। पंकज ने तोते का हिन्दू रीति रिवाज से अंतिम संस्कार किया। अंतिम संस्कार के लिए तोते के शव को पुष्पांजलि घाट पर गंगा में विसर्जित किया गया। उसके बाद पंकज ने अपने तोते की तेरहवीं करने के लिए वकायदा कार्ड छपवाए। इन कार्ड से पंकज ने अपने रिश्तेदारों और मित्रों को तेरहवीं का निमंत्रण भेजा। इसके बाद 11 मार्च को पंकज के घर उनके प्रिय तोते मिठ्ठू की तेहरवीं पर पहले हवन किया गया। मित्तल परिवार उनके रिश्तेदार और मोहल्ले के लोगों ने हवन यज्ञ में आहुति दी। इसके बाद भोज हुआ।

बेटे की तरह करते थे प्यार...
पंकज के मुताबिक उन्होंने साल 2013 में एक तोते को चील के चंगुल से बचाया था। इसके बाद पंकज ने घायल पडे तोते का इलाज करा कर उसकी जिंदगी बचाई थी। पंकज इस तोते को अपने बेटे से भी ज्यादा प्यार करते थे। उसके बाद ये तोता पंकज के परिवार का हिस्सा बन गया। पंकज के मुताबिक जब वे स्कूल से आते तो मिठ्ठू उनके पैरों में लौटने लगता। सुबह जब अखबार पडते तो मिठ्ठू भी अखबार को गौर से देखता। ऐसा लगता जैसे कि वह भी अखबार पढ रहा है।

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement