संस्कृति-आधारित समग्र शिक्षा को बढ़ावा देना जरूरी- उपराष्ट्रपति

img

नई दिल्ली, गुरूवार, 31 जनवरी 2019।  समग्र शिक्षा को समय की जरूरत बताते हुए भारत के उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने दिल्ली विश्वविद्यालय के P.G.D.AV कॉलेज (इवनिंग) कॉलेज के हीरक जयंती समारोह में कहा कि युवा अपने जीवन के प्रारंभिक चरण में हैं और उन्हें शिक्षा के साथ-साथ नैतिक सिद्धांतों और आध्यात्मिकता, सामाजिक सेवा की भावना और संस्कृति से प्यार करना चाहिए जो कि हमारी प्राचीन भूमि की परंपराएं हैं। इसके अलावा उन्होंने कहा कि शारीरिक फिटनेस और एक स्वस्थ जीवन शैली को बढ़ावा दिया जाना चाहिए। 

पीजीडीएवी कॉलेज को दिल्ली विश्वविद्यालय के शीर्ष रैंकिंग में सबसे अच्छे कॉलेजों में से एक बताते हुए नायडू ने महर्षि दयानंद सरस्वती के आधुनिक वैज्ञानिक स्वभाव के साथ आधुनिक वैज्ञानिक मिश्रण को आगे बढ़ाने के लिए एक हजार से अधिक संस्थानों वाले डीएवी परिवार की सराहना की। उन्होंने कहा कि हमें अपनी संस्कृति में निहित होना चाहिए लेकिन हमारे दृष्टिकोण में अछूता नहीं होना चाहिए। उपराष्ट्रपति ने कहा कि वह चाहते थे कि शिक्षा औपनिवेशिक मानसिकता के युवाओं से छुटकारा दिलाए और उन्हें हमारे इतिहास के ज्ञान और हमारी संस्कृति और परंपराओं के प्रति प्रेम के बारे में बताए। उन्होंने कहा कि भारत को 'विश्वगुरु' के रूप में जाना जाता है, जहां पूर्व में तक्षशिला और नालंदा जैसे विश्वविद्यालयों ने विश्व को शिक्षा प्रदान की थी। 

नायडू के अनुसार, भारतीय दर्शनशास्त्र 'Share and Care' के सिद्धांत पर आधारित है और यही कारण है कि इस देश पर अतीत में कई विदेशियों ने आक्रमण किया था पर हमने कभी किसी देश पर हमला नहीं किया था। युवाओं को सलाह देते हुए नायडू ने कहा कि वे अपने माता-पिता, अपनी मातृ भूमि और अपनी मातृभाषा का सम्मान करें। उन्होंने युवाओं से सकारात्मक रहने का आग्रह किया और मुद्दों का राजनीतिकरण करने की दुर्भाग्यपूर्ण प्रवृत्ति से दूर रहने को कहा।

 

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement