नाकामियों को छिपाने के लिए राजस्थान चुनाव से पहले भेजा जा रहा है समन- वाड्रा

img

नई दिल्ली, बुधवार, 05 दिसंबर 2018। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बहनोई राबर्ट वाड्रा ने बुधवार को आरोप लगाया है कि उनके खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले में जांच राजनीतिक बदले का नतीजा है और यह सब उनकी छवि को धूमिल करने के उद्देश्य से किया जा रहा है. सोशल मीडिया साइट फेसबुक पर एक पोस्ट के जरिए रॉबर्ट वाड्रा ने दावा किया अधिकारियों को ये पता है कि उनके खिलाफ कोई केस नहीं है. वाड्रा ने इसे जनता का ध्यान भटकाने के लिए मीडिया सर्कस बताया है. उन्होंने अपनी पोस्ट में लिखा कि अधिकारियों को अच्छी तरह से पता है कि उनके खिलाफ आगे बढ़ने के लिए कोई केस नहीं है. उनके खिलाफ लगाए गए आरोप राजनीतिक से प्रेरित और बदनाम करने की साजिश है. लेकिन एक दिन सच सामने जरूर आएगा.

वाड्रा ने आगे लिखा कि जांच एजेंसियों द्वारा मांगे गए सभी जरूरी डोजियर उन्होंने मुहैया कराए है. इसके बावजूद इसकी मांग की जा रही है. उन्होंने कहा कि उनके वही दस्तावेज बार-बार मांगे जा रहे हैं जो वो पिछले कुछ सालों में जांच के दौरान दे चुके हैं. उन्होंने लिखा कि चौंकाने वाली बात है कि मेरे द्वारा दिए गए 600 दस्तावेजों पर संज्ञान लिए बगैर 24 घंटे में फिर समन भेजा गया है. वाड्रा ने कहा कि उनके वकील को जयपुर में एक बार फिर पेश होने के लिए बाध्य किया गया. (कोई आश्चर्य नहीं है कि यह राजस्थान में वोटिंग के दो दिन पहले हो रहा है).

ऐसा हाल के समय में दूसरी बार हुआ है जब वाड्रा ने जांच एजेंसियों और केंद्र के खिलाफ नाराजगी जाहिर की है. 30 नवंबर को अपने फेसबुक पोस्ट में वाड्रा ने लिखा था कि उनके नाम का घसीटा जाना बीजेपी द्वारा सरकार की विफलताओं से जनता का ध्यान भटकाने के प्लान का हिस्सा है. बता दें कि इसी दिन प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बीकानेर जमीन धोखाधड़ी मामले में समन भेजा था.

इस मामले में स्पष्टिकरण जारी करते हुए वाड्रा ने फेसबुक पोस्ट में लिखा था कि गलत आरोप के आधार पर मीडिया द्वारा उनसे सवाल पूछे जा रहे हैं, जो शायद सरकार ने जान बूझकर राजस्थान चुनाव नजदीक होने से पहले लीक किए हैं. दिलचस्प यह है कि अधिकतर मामले ऐसे हैं जो न्यायालय के सामने विचाराधीन हैं. क्या यह महज इत्तेफाक है सरकारी एजेंसियों द्वारा ऐसे मामले फिर से उठाए जा रहे हैं जिनका उनसे कोई वास्ता नहीं है और जिसका जवाब साल भर पहले ही दिया जा चुका है. मैने पिछले चार सालों में जांच में पूरा सहयोग किया है.

प्रवर्तन निदेशालय ने सितंबर, 2015 में राजस्थान के बीकानेर में जमीन सौदे के मामले पर केस दर्ज किया था. ईडी बीकानेर में 360 एकड़ जमीन सौदे की जांच कर रहा है. वाड्रा ने यह जमीन बीकानेर के कोलायत इलाके में खरीदी थी, लेकिन बाद में बेच दी. राजस्थान सरकार इस सौदे को पहले ही रद्द कर चुकी है. आरोप है कि जमीन गलत तरीके से निजी क्षेत्र को दी गई.

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement