सबरीमला में उमड़े श्रद्धालु, हड़ताल से जनजीवन बाधित

img

पंबा/सन्निधानम, शनिवार, 17 नवंबर 2018। मलयाली पंचांग के पवित्र महीने ‘वृश्चिकम’ के पहले दिन शनिवार को हजारों श्रद्धालुओं ने आज यहां भगवान अयप्पा के दर्शन किए। हिंदू एक्यावेदी की महिला नेता को एहतियाती तौर पर हिरासत में लिए जाने के खिलाफ बुलाई गई 12 घंटे की हड़ताल के बावजूद मंदिर के तड़के तीन बजे खुलने के बाद से बच्चों समेत बड़ी संख्या में तीर्थयात्री कतारों में लगे दिखाई दिए।मंदिर में माहवारी आयु वर्ग की महिलाओं के प्रवेश की अनुमति देने पर जारी गतिरोध के बीच दो महीने लंबी वार्षिक तीर्थयात्रा के लिए शुक्रवार शाम को फिर से मंदिर खुला। मुख्य पुजारी वासुदेवन नम्पूथिरी की निगरानी में आज सुबह नियमित पूजा शुरू हुई। केरल राज्य परिवहन निगम के सूत्रों ने बताया कि अभूतपूर्व सुरक्षा के बीच निगम की बसें तीर्थयात्रियों को निलाक्कल से पंबा ला रही हैं और कोई भी बस सेवा नहीं रोकी गई। मंदिर परिसर के समीप दुकानें तथा होटल खुल गए हैं।

बहरहाल, हड़ताल के कारण राज्य के अन्य हिस्सों में सामान्य जनजीवन प्रभावित हुआ। कई इलाकों में बसें और ऑटो रिक्शा सड़कों से नदारद हैं। केएसआरटीसी के प्रबंध निदेशक टोमिन जे टी ने कहा कि निगम श्रद्धालुओं को मंदिर तक पहुंचने में मदद करने के लिए पुलिस सुरक्षा के साथ सबरीमला में बसें चला रहा है। उनहोंने पीटीआई- बताया कि तिरुवनंतपुरम के समीप बलरामपुर में प्रदर्शनकारियों ने केएसआरटीसी की एक बस पर हमला किया और उसकी खिड़कियां तोड़ दीं। राज्य की राजधानी में यात्रियों को हड़ताल के कारण अपने गंतव्य तक जाने में मुश्किल आ रही है। कई मरीज और उनके रिश्तेदार क्षेत्रीय केंसर केंद्र और तिरुवनंतपुरम मेडिकल कॉलेज अस्पताल तक पहुंचने में असमर्थ हैं।

पुलिस ने बताया कि अयप्पा मंदिर जा रही हिन्दू एक्यावेदी की प्रदेश अध्यक्ष के. पी. शशिकला को पुलिस ने सबरीमला के निकट माराकोट्टम से शुक्रवार देर रात करीब ढ़ाई बजे ‘‘एहतियातन हिरासत’’ में लिया। पुलिस ने फैसला किया है कि श्रद्धालुओं को रात के समय जब मंदिर बंद रहेगा तब वहां प्रवेश करने नहीं दिया जाएगा। पुलिस ने शशिकला को तब रोका जब वह भगवान की पूजा करने के लिए पूजन सामग्री लेकर पहाड़ी पर चढ़ रही थीं क्योंकि जब तक वह वहां पहुंचती तब तक मंदिर बंद हो गया होता। बाद में उन्हें रान्नी पुलिस थाने ले जाया गया।

एक अन्य संगठन के नेता सुधीर को भी एहतियात हिरासत में लिया गया। इस बीच, एक्यावेदी के प्रदर्शनकारी रान्नी पुलिस थाने तथा एरुमेली के बाहर एकत्रित हो गए और शनिवार सुबह ‘‘नाम जप’’ प्रदर्शन शुरू किया। पुलिस की कार्रवाई की निंदा करते हुए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष पी एस श्रीधरन पिल्लई ने कहा कि राज्य सरकार की कोशिश सबरीमला तीर्थयात्रा को ‘‘बर्बाद’’ करने की है। पिल्लई ने कोझीकोड में पत्रकारों से कहा, ‘‘सरकार सबरीमला की परंपराएं बर्बाद करना चाहती है। क्यों शशिकला और सुधीर को गिरफ्तार किया गया? भाजपा अपना प्रदर्शन तेज करेगी और हड़ताल का समर्थन करेगी।’’

विहिप प्रदेश अध्यक्ष एस जे आर कुमार ने आरोप लगाया कि शशिकला को ‘‘गिरफ्तार’’ किया गया। कुमार ने कोच्चि में पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘कुछ अन्य कार्यकर्ताओं को एहतियातन हिरासत में लिया गया है।’’उच्चतम न्यायालय द्वारा अयप्पा स्वामी मंदिर में सभी आयुवर्ग की महिलाओं को प्रवेश की अनुमति दिए जाने के बाद मंदिर तीसरी बार खुला है। त्रावणकोर देवस्वओम बोर्ड (टीडीबी) ने स्पष्ट कर दिया कि वह शनिवार या सोमवार को उच्चतम न्यायालय से उसके 28 सितंबर के आदेश को लागू करने के लिए और समय की मांग करेगा। पंबा में श्रद्धालु मुश्किलों का सामना कर रहे हैं क्योंकि वहां बाढ़ से काफी नुकसान हुआ है। चेन्नई के एक तीर्थयात्री ने कहा कि पंबा में कोई सुविधा नहीं है। बहरहाल, सन्निधानम (मंदिर परिसर) में सुविधाएं बेहतर हैं।

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement