धर्म और मंदिरों से नौकरियां पैदा नहीं होंगी- सैम पित्रोदा

img

गांधीनगर, सोमवार, 16 जुलाई 2018। एक दौर में राजीव गांधी के सलाहकार रहे और देश में कंप्‍यूटर क्रांति लाने में अहम भूमिका निभाने वाले टेलीकॉम क्षेत्र के उद्यमी सैम पित्रोदा ने एक विश्वविद्यालय में छात्रों से कहा कि भविष्य में धर्म से नौकरियां उत्पन्न नहीं होंगी, केवल विज्ञान ही भविष्य का निर्माण करेगा. उन्होंने यह भी कहा कि जब रोजगार के बारे में बात की जाती है तो इसे राजनीतिक रंग दे दिया जाता है और ''इसमें वास्तविकता कम, शब्दाडंबर ज्यादा होता है.''

सैम पित्रोदा ने कहा, ''जब मैं इस देश में मंदिर, धर्म, ईश्वर, जाति के बारे में सभी चर्चाओं को सुनता हूं तो मैं भारत के बारे में चिंता करता हूं. भविष्य में मंदिरों से रोजगार उत्पन्न नहीं होगा. केवल विज्ञान ही भविष्य का निर्माण करेगा.''

विज्ञान पर ज्‍यादा चर्चा की जरूरत
सैम पित्रोदा ने कहा कि हालांकि सार्वजनिक क्षेत्र में विज्ञान पर बहुत कम चर्चा होती है. पित्रोदा ने कहा, ''जब भी कोई रोजगार के बारे में बात करता है तो हमेशा इसमें राजनीतिक रंग होता है. वास्तविकता बहुत कम और शब्दाडंबर ज्यादा होता है.'' सैम पित्रोदा रविवार को कर्णावती विश्वविद्यालय में 'युवा संसद' में बोल रहे थे. उन्होंने आरोप लगाया कि देश के युवाओं को, खासकर राजनीतिक नेताओं द्वारा गुमराह किया जा रहा है, बेकार की चीजों पर बात की जा रही है जिससे वे गलत रास्ते पर जा रहे हैं.

इसी तरह पिछले साल अक्‍टूबर में गुजरात वाणिज्य एवं उद्योग मंडल में इनोवेशन पर भाषण देते हुए सैम पित्रोदा ने कहा था कि लोगों को राम मंदिर या इतिहास जैसे मुद्दों से आगे बढ़ना चाहिए. उन्होंने उस दौरान कहा था, ''जब मैं भारत में बहस देखता हूं तो यह हमेशा राम मंदिर या इतिहास के बारे में होती है. हर व्यक्ति अतीत की बात करता है. हमें बस अतीत से चिपके रहना पसंद है. (जबकि) हमें आगे बढ़ने की जरूरत है.''

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement