फर्जी RAW एजेंट गिरफ्तार

img

वाराणसी, रविवार, 13 मई 2018। देश में फर्जीवाड़ा करने वाले लोग अब खुफिया एजेंसी रॉ के नाम पर भी फर्जीवाड़ा करने से नहीं चूक रहे हैं. अपने फायदे के लिए वे फर्जी रूप से रॉ का इस्‍तेमाल कर रहे हैं. ऐसा ही एक मामला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में सामने आया है. यहां के चौक थाना क्षेत्र में मारपीट के एक मामले में पकड़े गए युवक के पास से देश की खुफिया एजेंसी रॉ का आईकार्ड बरामद हुआ. उसने खुद के रॉ एजेंट होने का दावा किया. इससे पुलिस और खुफिया विभाग में हड़कंप मच गया. इसके बाद घंटों पुलिस और खुफिया विभाग परेशान रहा लेकिन जब इस आईकार्ड की गहनता से जांच की गई तो मामला फर्जी निकला. फिलहाल पुलिस पकड़े गए फर्जी रॉ एजेंट के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की तैयारी में है.

इस पूरे मामले के बारे में सीओ दशाश्वमेध स्नेहा तिवारी ने बताया कि पुलिस को सूचना मिली थी कि चौक थाना क्षेत्र के एक मोहल्ले में कुछ लोग मारपीट कर रहे हैं. इस सूचना पर पुलिस ने वहां जाकर कुछ लोगों को पकड़ा और थाने लेकर आए. हवालात में बंद करने से पहले उनकी तलाशी ली गई तो एक युवक के पास से एक आईकार्ड बरामद हुआ.

जब युवक से इस बारे में पूछा गया तो वह संतोषजनक जवाब नहीं दे पाया. जिसके बाद पुलिस ने अपने स्तर पर छानबीन शुरू की. मामले की सूचना खुफिया विभाग को दी गई और थाने पहुंचकर लोकल इंटेलिजेंस के साथ केंद्रीय एजेंसियों की घंटों की जांच-पड़ताल के बाद यह स्पष्ट हो गया कि बरामद आईकार्ड फर्जी है. युवक इसका इस्तेमाल रौब गांठने और लोगों को बेवकूफ बनाकर उनसे धन उगाही के लिए करता था.

पुलिस के मुताबिक पकड़े गए युवक का नाम धर्मेंद्र पांडे निवासी अलीनगर जिला चंदौली है. युवक अपने एक रिश्तेदार के यहां वाराणसी आया था और मारपीट के मामले में पकड़कर थाने लाया गया था. फिलहाल पुलिस पकड़े गए युवक के खिलाफ कई गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर कठोर कार्रवाई की बात कह रही है. पुलिस का कहना है कि बरामद आई कार्ड को इंटरनेट पर रॉ के लोगो को डाउनलोड कर फोटोशॉप की मदद से तैयार किया गया है. आई कार्ड में SSP रॉ का पद लिखा हुआ है. फिलहाल पुलिस यही जांच कर रही है कि युवक ने इस आईकार्ड के बल पर क्या-क्या किया है.

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement