2 वरिष्ठ जजों का CJI को पत्र, कहा- फुल कोर्ट मेंं करें SC के भविष्य पर चर्चा

img

नई दिल्ली, बुधवार, 25 अप्रैल 2018। CJI दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग का नोटिस खारिज होने के 2 दिन बाद सुप्रीम कोर्ट के दो वरिष्ठ जजों ने उन्हे पत्र लिखा है। जस्ट‍िस रंजन गोगोई और मदन लोकुर ने मांग है कि सर्वोच्च अदालत के भविष्य और संस्थागत मसलों पर चर्चा करने के लिए 'फुल कोर्ट' बुलाई जाए। पत्र में लिखा कि हमें संस्थानिक मुद्दों और अदालत के भविष्य पर विचार करने की जरूरत है लेकिन चीफ जस्टिस ने इसका कोई जवाब नहीं दिया है। 

पहले भी उठाया फुल कोर्ट का मुद्दा
खबरों के अनुसार 23 अप्रैल को चाय पर चर्चा के दौरान सुप्रीम कोर्ट के कुछ जजों ने फुल कोर्ट का मुद्दा उठाया था तब चीफ जस्टिस इस पर गंभीर नहीं दिखाई नहीं दिए। 9 अप्रैल को जस्टिस कुरियन जोसफ ने भी CJI को चिट्ठी लिखकर कॉलेजियम की सिफारिशों पर सरकार के रवैये पर कदम उठाने को कहा था। बता दें कि जस्ट‍िस दीपक मिश्रा अक्टूबर में रिटायर हो रहे हैं और इस पद पर जस्ट‍िस गोगोई के आने की संभावना है। 

कांग्रेस CJI के खिलाफ लाई थी महाभियोग प्रस्ताव
गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा के खिलाफ कांग्रेस के नेतृत्व में सात विपक्षी दलों की ओर से दिए गए महाभियोग प्रस्ताव को उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने खारिज कर दिया था। उन्होंने इस प्रस्ताव को राजनीति से प्रेरित बताया था। जनवरी में भी सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश जस्टिस जे. चेलमेश्वर, जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस मदन लोकुर और जस्टिस कुरियन जोसेफ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा था कि सुप्रीम कोर्ट का प्रशासन ठीक तरह से काम नहीं कर रहा है अगर ऐसा चलता रहा तो लोकतंत्र खत्म हो जाएगा। 

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement