कर्नाटक में BJP की सुनामी, कांग्रेस का होगा सूपड़ा साफ- शाह

img

शिवमोगा, मंगलवार, 27 मार्च 2018। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि कर्नाटक में उनकी पार्टी के पक्ष में सुनामी है और यह राज्य में आगामी विधानसभा चुनाव में सत्तारूढ़ कांग्रेस को न सिर्फ हराएगी बल्कि उसे जड़ से उखाड़ देगी। उन्होंने विविध मोर्चे पर सिद्धरमैया सरकार को निशाना बनाते हुए कहा कि उसने लोगों से दूरी बना ली। शाह ने कहा, ‘गुजरात के चुनाव के बाद यह मेरा कर्नाटक का दौरा है। यहां पर अदभुत उत्साह देखने को मिल रहा है। पहले मैं कहता था कि भाजपा की लहर है। अब मैं कहता हूं कि यह सुनामी है।’

वह भाजपा की प्रदेश इकाई के प्रमुख बी एस येदियुरप्पा के गृह जिले में रैली को संबोधित कर रहे थे। राज्य में आगामी चुनाव में येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के तौर पर पेश किया जा रहा है। कर्नाटक में दो दिवसीय दौरा कर रहे शाह ने कहा कि पांच साल में सिद्धरमैया सरकार ने लोगों और विकास से दूरी बना ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के चार दिवसीय दौरे के समापन के एक दिन बाद कर्नाटक आए शाह ने कहा, ‘राहुल गांधी दौरा कर रहे हैं। वह कह रहे हैं कि कांग्रेस सरकार राज्य में आएगी।’

उन्होंने कहा, ‘2014 के बाद के रिकार्ड देखें।’ उन्होंने केंद्र में सत्ता में आने के बाद भाजपा की जीत का हवाला दिया। शाह ने कहा कि पार्टी ने महाराष्ट्र, हरियाणा, झारखंड, जम्मू कश्मीर, मणिपुर, असम, उत्तराखंड, उत्तरप्रदेश, गुजरात, हिमाचल प्रदेश, मेघालय, नगालैंड और त्रिपुरा में सरकार बनायी। उन्होंने कहा, ‘मोदी का यह विजयरथ कर्नाटक पहुंच चुका है । अब क्या होगा ? हम उन्हें केवल हराएंगे ही नहीं बल्कि कांग्रेस को उखाड़ फेंकेंगे।’

शाह ने आरोप लगाया कि पिछले साढ़े चार साल में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के कार्यकर्ताओं ने भाजपा/आरएसएस के 20 कार्यकर्ताओं की हत्या कर दी। पूर्व में पीएफआई ने हत्याओं में उसकी संलिप्तता के भाजपा के आरोपों को खारिज किया था। शाह ने कहा कि मोदी सरकार ने गरीब लोगों की जिंदगी संवारने के लिए कई कल्याणकारी योजनाएं शुरू की हैं।

With this sea of humanity on the streets of Shivamogga, the Congress central leadership and CM Siddaramaiah can itself feel the Tsunami of BJP in Karnataka. The countdown of the corrupt Siddaramaiah government has begun. pic.twitter.com/QfD6mCDyar

— Amit Shah (@AmitShah) March 26, 2018

उन्होंने कहा, ‘लेकिन कर्नाटक में यह नहीं पहुंच रहा। मोदी सरकार हाई टेंशन लाइन की तरह है। इससे सीधे बिजली लेना संभव नहीं है। आपको एक ट्रांसफार्मर की जरूरत है। हालांकि सिद्धरमैया सरकार का ट्रांसफार्मर जल चुका है। ऐसे ट्रांसफार्मर को हटा देना चाहिए।’ इससे पहले टुमकुरू जिले के तिप्तूर में शाह ने कहा कि लिंगायत और वीरशैव समुदायों को पृथक धार्मिक अल्पसंख्यक दर्जा देने का उद्देश्य बी एस येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री बनने से रोकना है।

उन्होंने यहां नारियल उपजाने वाले किसानों के सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, ‘सिद्धरमैया सरकार यह प्रस्ताव इसलिए नहीं लाई कि वे लिंगायतों से प्रेम करते हैं, बल्कि उनका मकसद येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री बनने से रोकना है।’ उन्होंने कहा, ‘मैं कर्नाटक की जनता से कहना चाहता हूं कि अगर भाजपा को बहुमत मिलता है तो हम येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री बनाएंगे।’ येदियुरप्पा को लिंगायतों का मजबूत नेता माना जाता है।

राज्य की कैबिनेट ने हाल में केन्द्र को यह सिफारिश करने का फैसला किया था कि लिंगायतों और वीरशैवों को धार्मिक अल्पसंख्यक दर्जा दिया जाए। इस कदम को भाजपा के मजबूत लिंगायत वोट बैंक में सेंध लगाने के प्रयास के रूप में देखा जा रहा है। शाह ने कहा कि केन्द्र की तत्कालीन मनमोहन सरकार 2013 में इस प्रस्ताव को खारिज कर चुकी है और अब उसे लाने का मकसद लोगों के बीच भ्रम पैदा करना है।

हालांकि उन्होंने भरोसा जताया कि राज्य की जनता सिद्धरमैया की ‘फूट डालो और शासन करो की नीति से’ प्रभावित नहीं होगी। शाह ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को भाजपा पर आरोप लगाने से पहले लोगों को बांटने के लिए सिद्धरमैया पर सवाल उठाने चाहिए। उन्होंने राज्य में किसानों की खुदकुशी को रोकने में नाकाम रहने पर सिद्धरमैया सरकार पर करारा हमला बोला। उन्होंने कहा, ‘अगर आप येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री बनाने के लिए वोट देंगे तो मैं आपको आश्वासन देता हूं कि किसानों की खुदकुशी के मामले बंद हो जाएंगे।’

Message is loud and clear...people of Karnataka want change, people want development, people want BJP. pic.twitter.com/Pff7eOEMPj

— Amit Shah (@AmitShah) March 26, 2018

येदियुरप्पा के गृह जिले शिवमोगा में जनसभा में शाह ने कहा कि सिद्धरमैया सरकार के नेतृत्व में कर्नाटक में सभी विकास कार्य रूक गये हैं। शाह ने शिवमोगा में एक विशाल रोडशो निकाला जहां उन्होंने प्रदेश भाजपा की एक यात्रा भी निकाली। भाजपा अध्यक्ष शाह ने टुमकुरू के सिद्धगंगा मठ में लिंगायत समुदाय के संत श्री शिवकुमार स्वामी से मिलकर उनका आशीर्वाद प्राप्त किया और कर्नाटक के दो दिवसीय दौरे की शुरूआत की। 

श्री शिवकुमार स्वामी से शाह की मुलाकात को लिंगायत / वीरशैव समुदाय तक पहुंच कायम करने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है। राज्य में इस समुदाय की आबादी अच्छी-खासी है और यह समुदाय राजनीतिक तौर पर भी ताकतवर माना जाता है। इस समुदाय में भाजपा की अच्छी पैठ बताई जाती है। शाह ने एक ट्वीट में कहा, ‘आज मुझे सिद्धगंगा मठ, टुमकुरू के श्री श्री श्री शिवकुमार स्वामीजी से आशीर्वाद प्राप्त करने का सौभाग्य मिला। इस उम्र में भी उनका अथक कार्य प्रेरणादायी है। उनका जीवन एक जीती-जागती मिसाल है और हम सबके लिए मार्गदर्शक है।’

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement