CM योगी ने पेश किया 1 साल का रिपोर्ट कार्ड

img

सपा सरकार पर बोला हमला, की बड़ी घोषणाएं

लखनऊ, सोमवार, 19 मार्च 2018: यूपी की योगी सरकार के एक साल पूरे हो चुके हैं. इस मौके पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश को संबोधित किया और अपनी उपलब्धियां गिनाईं. अपने भाषण में योगी आदित्याथ ने कहा कि ठीक एक वर्ष पूर्व हमारी सरकार ने शपथ ग्रहण किया था. हमने यूपी में परिवर्तन और विकास के साथ-साथ सरकारी योजनाओं का लाभ समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाया. अपनी सरकार का बचाव करते हुए उन्होंने कहा, "किसी भी लोकतांत्रिक सरकार के मूल्यांकन के लिए एक वर्ष पर्याप्त नहीं और खासतौर से यूपी में जहां जंगलराज था, भ्रष्टाचार था. लेकिन, हमने टीम स्पिरिट से काम किया, हमने लोक कल्याण संकल्प पत्र जारी किया था."

जताया जनता का आभार
प्रदेश की जनता का आभार जताते हुए योगी ने कहा, "यूपी की जनता ने आदरणीय प्रधानमंत्री के साथ जुड़कर बीजेपी और सहयोगी दलों को प्रचंड बहुमत देकर एक नई आशा के साथ सरकार बनाने में योगदान दिया था. पिछले एक साल से पहले यूपी में जंगलराज था. साथ ही यूपी की राजनीति जातिवाद और परिवारवाद में उलझी हुई थी. इससे प्रदेश को मुक्ति मिली है."

गिनाईं शुरुआती उपलब्धियां
अपनी सरकार की शुरुआती उपलब्धियां गिनाते हुए योगी ने कहा, "हमने पहली कैबिनेट बैठक में किसानों के कर्ज को माफ करने का फैसला लिया. एक साल पहले भय का माहौल था. निवेश नहीं हो रहा था, गन्ना किसान का भुगतान नहीं हो रहा था. लेकिन, हमने ये भी किया." योगी ने अपने भाषण में आगे कहा, "यूपी सरकार पहली ऐसी सरकार है देश में जिसने 80 हजार करोड़ किसानों को भुगतान किए."

एन्टी करप्शन पोर्टल की घोषणा
एक नई घोषणा करते हुए उन्होंने कहा, "आज से हम पूरे प्रदेश में एन्टी करप्शन पोर्टल लांच कर रहे हैं. जहां हर तरह के करप्शन की शिकायत होगी. यूपी की कानून-व्यवस्था पुलिस बल की कमी के बावजूद मिसाल कायम कर रही है. मैं कहना चाहता हूं कि एक बंदर ने पूरी लंका जला डाली थी और मैं विश्वास दिलाता हूं कि एक बंदर प्रदेश से गुंडाराज और भ्रष्टाचार को मिटाएगा."

बाहरी मुन्नाभाई थे परीक्षा छोड़ने वाले
नकल विहीन परीक्षा पर बोलते हुए योगी ने कहा, "जिन 12 लाख स्टूडेंट ने परीक्षा छोड़ी उनमें से 75 फीसदी छात्र यूपी के बाहर से थे, मुन्ना भाई थे वो, हम 1 अप्रैल से नए पाठ्यक्रम के साथ आ रहे हैं."

पिछली सरकार पर बरसे योगी
राज्य की पिछली सरकार पर हमला बोलते हुए योगी ने कहा, "जब काम शुरू किया तो प्रदेश का खजाना खाली था. जो हमारे लिए बड़ी चुनौती थी. साथ ही बड़ी संख्या में सड़कें गड्ढायुक्त थीं और किसान आत्महत्या कर रहा था. निवेशक यहां नहीं आ रहा था और कारोबारी पलायन कर रहा था. भय का माहौल था. ऐसी स्थिति में हमने किसानों की आय दोगुनी करने के प्रधानमंत्री के संकल्प को ध्यान में रखते हुए 86 लाख किसानों का 1 लाख तक कर्ज माफ करने का फैसला किया."

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement