केरल और कर्नाटक में भी खिलेगा कमल- योगी आदित्यनाथ

img

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने त्रिपुरा समेत तीन पूर्वोत्तर राज्यों में भाजपा की ऐतिहासिक सफलता पर रविवार (4 मार्च) को खुशी जाहिर करते हुए तंज किया कि राहुल गांधी के अध्यक्ष बनने के बाद कांग्रेस पार्टी पांच राज्यों में चुनाव हार चुकी है तथा उनका यह रिकॉर्ड और तेजी के साथ आगे बढ़ेगा. योगी ने यहां प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि देश के पूर्वोत्तर राज्यों त्रिपुरा, नगालैंड और मेघालय में भाजपा और उसके गठबंधन को जो ऐतिहासिक सफलता मिली है उसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और पूर्वोत्तर के उन तमाम कार्यकर्ताओं को बधाई, जिन्होंने विषम परिस्थितियों में इन पूर्वोत्तर राज्यों में कमल खिलाने में कामयाबी हासिल की.

उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर करारा प्रहार करते हुए कहा "राहुल अध्यक्ष बनने के बाद पांच राज्यों में चुनाव हार चुके हैं उनका यह रिकॉर्ड और तेजी के साथ आगे बढ़ेगा." योगी ने गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव में मायावती की अगुवाई वाली बसपा द्वारा सपा को समर्थन दिए जाने की प्रबल संभावनाओं के बारे में पूछे जाने पर कहा कि केले और बेर का कोई मेल नहीं होता.

बसपा को लिया निशाने पर
उन्होंने सपा का नाम लिए बगैर बसपा की दुखती रग पर हाथ रखते हुए कहा "यह किसी से छुपा नहीं है कि गेस्ट हाउस कांड किसने किया और स्मारकों को और मायावती सरकार द्वारा बनवाए गए स्मारकों को ध्वस्त करने की चेतावनी कौन लोग दे रहे थे." मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्वोत्तर राज्यों में भाजपा की जीत के बहुत मायने हैं. प्रधानमंत्री ने विकास और सुशासन को अपना एजेंडा शुरू से ही बनाया और अरसे से विकास के मामले में उपेक्षित पूर्वी भारत को भी विकास की प्रक्रिया की तरफ मोड़ा.

राष्ट्रीय अखंडता के लिए जरूरी पूर्वोत्तर राज्यों के चुनावी नतीजे
उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर राज्यों के चुनाव परिणाम राष्ट्रीय अखंडता के लिए भी बेहद महत्वपूर्ण है. इस जीत ने एहसास कराया है कि जाति, मत और मजहब के आधार पर समाज को बांट कर कोई भी व्यक्ति सार्वजनिक जीवन में बहुत दिन तक टिक नहीं सकता. योगी ने कहा कि इतिहास में पहली बार वामपंथ के किसी गढ़ को भाजपा कार्यकर्ताओं ने ध्वस्त कर वहां विकास के रंग यानी केसरिया को आच्छादित कर दिया है.

केरल, पश्चिम बंगाल और उड़ीसा चुनाव पर पड़ेगा असर
उन्होंने विश्वास जताया कि पूर्वोत्तर में मिली चुनावी सफलता का प्रभाव कर्नाटक केरल, पश्चिम बंगाल और उड़ीसा के आगामी विधानसभा चुनाव पर भी पड़ेगा और भाजपा के विकास तथा सुशासन के लक्ष्य को आगे करते हुए प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के कुशल रणनीति के तहत पार्टी इन राज्यों में भी पार्टी विजय पताका फहराएगी.

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement