कासगंज हिंसा- मुस्लिमों को निशाना बनाया जा रहा- रामगोपाल यादव

img

नई दिल्लीः समाजवादी पार्टी के थिंक टैंक प्रो.रामगोपाल यादव ने आज (शुक्रवार) राज्यसभा में कासगंज हिंसा का मुद्दा उठाया. रामगोपाल यादव ने कहा कि कासगंज में अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों को पुलिस बिना वजह निशाना बना रही है. वहां उनके घरों के दरवाजे तोड़कर पुलिस जबरदस्ती की गिरफ्तारियां कर रही है. हालांकि इस मामले पर पदासीन अध्यक्ष ने कहा कि आपने कोई नोटिस नहीं दिया है कृपया बैठ जाएं. लेकिन सपा सांसद लगातार अपनी बात को कहते रहे. संसद से बाहर आने के बाद भी रामगोपाल यादव ने मीडिया के सामने अपनी बात रखी.

रामगोपाल यादव ने राज्य की योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि कासगंज में मुस्लिम समुदाय के लोगों को निशाना बनाया जा रहा है. उन पर बिना वजह झूठे केस दर्ज किए जा रहे है. उन्होंने कहा, 'मुस्लिम लोगों के घरों में घुसकर मारपीट की, झूठे इल्जाम लगाकर लोगों को गिरफ्तार किया जा रहा है. उनकी प्रॉपर्टी को नष्ट किया जा रहा है. आग लगाई जा रही है. पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही है'

AMU छात्रों चंदन को मुआवजा देने की मांग
अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMUSU) के छात्रों ने कासगंज हिंसा के मृतक चंदन गुप्ता के परिवारवालों को 50 लाख रुपये का मुआवजा देने की मांग की है. गुरुवार (1 फरवरी) को AMUSU के छात्रों से अलीगढ़ रेंज के आईजी संजीव गुप्ता से मुलाकात के दौरान अलीगढ़ में हुई हिंसा मामले में अभियुक्तों की गिरफ्तारी की मांग करते हुए कहा कि पिछले दिनों हुई कासगंज हिंसा से वह बेहद नाराज है. AMUSU के छात्रों ने उत्तर प्रदेश पुलिस प्रशासन से चंदन गुप्ता के हत्यारों और हिंसा में जिम्मेदार आरोपियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने की मांग की. 

 चंदन के पिता को मिली धमकी के बाद पुलिस ने बढ़ाई घर की सुरक्षा
कासगंज में भड़की हिंसा में मारे गए चंदन गुप्ता के घर की सुरक्षा को पुलिस ने बढ़ा दिया है. दरअसल गुरुवार को चंदन गुप्ता के पिता सुशील गुप्ता कासगंज पुलिस थाने पहुंचे थे. थाने में सुशील गुप्ता ने शिकायत दर्ज कराते हुए कहा कि कुछ अजारक तत्वों ने उन्हें जान से मारने की धमकी दी है. इस धमकी के बाद उनके परिवार में खौफ का माहौल है. सुशील गुप्ता की शिकायत के बाद पुलिस अधिकारी ने घर की सुरक्षा को बढ़ा दिया है. 

बाइक सवारों ने दी धमकी
जी मीडिया से बातचीत के दौरान चंदन के पिता सुशील गुप्ता ने कहा कि जब वह अपने घर के बाहर बैठे हुए थे, तभी दो बाइक सवार उनके पास आए और कहा 'तुमने पुलिस के पास जाकर अच्छा काम नहीं किया'. सुशील गुप्ता ने कहा कि जब तक वह कुछ समझ पाते तब तक बाइक सवार वहां से फरार हो गए. चंदन के पिता ने कहा कि इस वक्त उन्हें अपने परिवार की सुरक्षा और दूसरे बेटे की चिंता सता रही है.

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement