CJI दीपक मिश्रा ने की चार जजों से मुलाकात

img

किन मुद्दों पर हुई चर्चा?

नई दिल्ली : भारत के प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा ने 12 जनवरी को एक संवाददाता सममेलन के दौरान उठाए गए मुद्दों का समाधान करने के लिए सुप्रीम कोर्ट के चार वरिष्ठतम न्यायमूर्तियों के साथ आज एक बैठक की. अदालत के सूत्रों ने बताया कि भारत के प्रधान न्यायाधीश ने गुरुवार की सुबह साढ़े दस बजे अदालत की कार्यवाही शुरू होने से पहले करीब 10 से 15 मिनट तक चारों न्यायमूर्तियों जस्टिस जे. चेलमेश्वर, रंजन गोगोई, मदन बी. लोकुर तथा जस्टिस कुरियन जोसेफ के साथ बैठक की.

AdvertisementAdvertisementAdvertisementमुलाकात पर चर्चाओं का बाजार
बताया गया है कि इस बैठक में सीजेआई और इन चार जजों के अलावा और कोई मौजूद नहीं था. पहले यह बैठक बुधवार को बुलाई गई थी, लेकिन जस्टिस चेलमेश्वर के दिल्ली में नहीं होने के कारण बैठक नहीं हो पाई थी. गुरुवार को हुई बैठक में किन मुद्दों पर चर्चा हुई और किन बातों पर सहमति बनी, साफ नहीं हो पाया है. जानकार अपने-अपने तरीकों से कयास लगाने में जुटे हुए हैं.

बता दें कि एक अप्रत्याशित कदम उठाते हुए 12 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट के चार सीनियर जजों ने शीर्ष अदालत में मामलों का आवंटन करने सहित कुछ मुद्दे उठाए थे. चारों न्यायमूर्तियों ने कहा था कि ये कुछ मुद्दे हैं जिनके कारण देश की सर्वोच्च अदालत का कामकाज प्रभावित हो रहा है.

होती रहेगी मामले की रिपोर्टिंग
सुप्रीम कोर्ट के जजों द्वारा प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद उपजे विवाद का प्रकाशन करने, उन पर चर्चा करने या उनका राजनीतिकरण करने से मीडिया को रोकने की मांग करने वाली याचिका पर सुनवाई से इनकार कर दिया. प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि वह इस मामले की सुनवाई तभी करेगी, जब शीर्ष अदालत की रजिस्ट्री इस याचिका को दर्ज करके सुनवाई के लिए सूचीबद्ध करेगी.

याचिका में इसे तत्काल सूचीबद्ध किए जाने और सुनवाई किए जाने की मांग की गई थी. याचिका में 12 जनवरी को हुए संवाददाता सम्मेलन की विषय वस्तु का प्रकाशन करने, उस पर चर्चा करने, उसका राजनीतिकरण करने या उस पर बहस करने पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाने की मांग की गई है ताकि संस्था को और नुकसान से बचाया जा सके.

पहली बार मीडिया के सामने आए जज
12 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट के जजों ने पहली बार मीडिया के सामने आते हुए कहा कि हम आज इसलिए आपके सामने आए हैं, ताकि कोई ये न कहे कि हमने अपनी आत्‍माएं बेच दीं. प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में न्यायमूर्ति जे चेलमेश्वर, न्यायमूर्ति रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति एम बी लोकुर और न्यायमूर्ति कुरियन जोसेफ ने प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा द्वारा मामलों के आवंटन समेत कई मामले उठाए. 

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement