नीतीश कुमार और NDA का साथ नहीं आया रास

img

जदयू सदस्य ने दिया राज्यसभा से इस्तीफा

नई दिल्ली: राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के सदस्य एम पी वीरेंद्र कुमार का उच्च सदन की सदस्यता से इस्तीफा स्वीकार कर लिया है. नायडू ने उच्च सदन में आज शून्यकाल के दौरान इसकी घोषणा की. उन्होंने कहा कि वीरेंद्र कुमार ने उनसे व्यक्तिगत रूप से मुलाकात की थी और उन्हें अपना इस्तीफा सौंपा था. सभापति ने कहा कि उन्होंने वीरेंद्र कुमार का इस्तीफा स्वीकार कर लिया है जो 20 दिसंबर से प्रभावी होगा. कुमार उच्च सदन में केरल का प्रतिनिधित्व कर रहे थे. वह अप्रैल 2016 में राज्यसभा सदस्य बने थे और उनका कार्यकाल अप्रैल 2022 तक था.

उल्लेखनीय है कि कुमार ने जदयू अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा भाजपा नीत राजग के साथ गठबंधन करने के मुद्दे पर वैचारिक मतभेद को अपने इस्तीफे की मुख्य वजह बताई है. उन्होंने बुधवार को संवाददाताओं को बताया था कि उन्होंने सभापति नायडू को अपना त्यागपत्र सौंप दिया है.

नेता ने कहा, "मैंने नियमानुसार इस्तीफा दिया है. मैं नीतीश कुमार (बिहार के मुख्यमंत्री) की पार्टी का नेता हूं और मुझे उनके साथ होना चाहिए था, लेकिन अब जब वह संघ परिवार के एजेंडे के पीछे चल पड़े हैं तो मैं इसे स्वीकार नहीं कर सकता हूं." "मुझे पता है कि मुझे पिछले साल यह सीट मिली थी, जब मैं केरल में सोशलिस्ट जनता डेमोक्रेटिक (एसजेडी) पार्टी का हिस्सा था, जो कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूडीएफ का हिस्सा थी. मेरे निर्वाचन के बाद एसजेडी का जद(यू) में विलय हो गया."

नीतीश कुमार पर भी बोले वीरेंद्र
भाजपा के साथ नीतीश के गठबंधन पर उन्होंने कहा, "मैं नीतीश कुमार के साथ जुड़ने के आरोपों को लेकर यूडीएफ पर बोझ नहीं बनना चाहता. इसके अलावा मैंने चुनाव आयोग और राज्यसभा के नियमों की जानकारी ली और मुझे पता चला कि कानूनी तौर और तकनीकी तौर पर मैं नीतीश कुमार की पार्टी से अलग होकर राज्यसभा का सदस्य नहीं रह सकता हूं, इसलिए मैंने यह कदम उठाया."

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement