नीतीश ने लालू पर कसा तंज: 'जान की चिंता, माल की चिंता.. सबसे बड़ी देशभक्ति'...

img

पटना : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को एक बार फिर से राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष लालू प्रसाद पर निशाना साधा. लालू प्रसाद द्वारा अपनी सुरक्षा में कटौती पर प्रश्न उठाए जाने पर नीतीश ने लालू प्रसाद को उनकी बेनामी 'संपत्ति' मामले में घेरने की कोशिश की.

जद(यू) के अध्यक्ष नीतीश कुमार ने इशारों ही इशारों में बिना किसी का नाम लिए ट्वीट कर लिखा, "जान की चिंता, माल की चिंता. सबसे बड़ी देशभक्ति है." आमतौर पर ट्विटर से दूर रहने वाले नीतीश कुमार ने मंगलवार को भी लालू की सुरक्षा में कटौती को लेकर उपजे विवाद को लेकर लालू पर निशाना साधा था. 

सरकार द्वारा जेड प्लस सुरक्षा में कटौती के बाद लालू प्रसाद ने सोमवार को नीतीश कुमार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा था कि अगर उन्हें कुछ हुआ तो इसके जिम्मेदार नीतीश और मोदी होंगे.

नीतीश कुमार ने किया यह ट्ववीट...

जान की चिंता, माल-मॉल की चिंता,
सबसे बड़ी देशभक्ति है !

— Nitish Kumar (@NitishKumar) November 29, 2017

इस बीच मुख्यमंत्री के ट्वीट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए लालू छोटे पुत्र और बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने पत्रकारों से बातचीत में आरोप लगाया कि सत्तारूढ़ दलों से निकट सभी अप्रासंगिक लोगों को सुरक्षा मिली हुई है जो सरकार की प्राथमिकताओं को दर्शाता है.

उल्‍लेखनीय है कि केन्द्र ने राष्ट्रीय जनता दल (राजद) प्रमुख लालू प्रसाद यादव की एनएसजी कमांडो वाली जेड+ वीआईपी सुरक्षा हटा ली है. इस पर राजद प्रमुख और उनके दोनों पुत्रों तेज प्रताप यादव और तेजस्वी यादव ने षड्यंत्र का आरोप लगाया है. तेज प्रातप ने तो तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 'खाल' उतरवा लेने की धमकी दे डाली.

इसके बाद राजद प्रमुख लालू ने पटना में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा था, लालू ऐसे नहीं हैं जिसे भयभीत किया जा सके. बिहार की जनता मेरी रक्षा करेगी. यद्यपि मुझे कुछ होता है तो राज्य की नीतीश कुमार सरकार और केंद्र की मोदी सरकार दोनों संयुक्त रूप से जिम्मेदार होंगे. लालू के दो पुत्रों तेज प्रताप यादव और तेजस्वी यादव ने सरकार के इस निर्णय पर नाराजगी भरी प्रतिक्रिया व्यक्त की.

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement