कांग्रेस से संघर्ष के बाद हार्दिक पटेल की राजकोट रैली पर जमी निगाहें

img

अहमदाबाद: कांग्रेस के साथ आरक्षण फॉमूले पर पहले सहमति और बाद में विवाद होने के बाद पाटीदार अनामत आंदोलन समिति (पास) के नेता हार्दिक पटेल की सोमवार को राजकोट में होने वाली रैली पर सभी की निगाहें जम गई हैं. दरअसल हार्दिक पटेल आज राजकोट में रैली के माध्‍यम से कांग्रेस के फॉर्मूले को सबके समक्ष पेश करने वाले थे. आज ही राजकोट पश्चिम से मुख्‍यमंत्री विजय रूपानी अपना पर्चा दाखिल करने वाले हैं. इस कड़ी में भी इस रैली को अहम माना जा रहा है. 

इसी बीच कांग्रेस ने देर शाम 77 प्रत्‍याशियों की सूची जारी कर दी. उसमें हार्दिक पटेल के दो करीबी नेताओं को टिकट दे दिया गया. इसी बात से पास नेता नाराज हो गए. उन्‍होंने सवालिया लहजे में कहा कि आखिर कांग्रेस ने बिना हमसे पूछे हमारे दो नेताओं को किस आधार पर टिकट दे दिया.  

संघर्ष की शुरुआत
माना जा रहा है कि संघर्ष की शुरुआत पास नेता दिनेश पटेल और गुजरात कांग्रेस अध्‍यक्ष भरत सिंह सोलंकी के घर के बाहर तैनात पुलिसकर्मी के बीच झड़प से हुई. पाटीदार नेता ने कहा कि उनको सोलंकी के घर पर बैठक के लिए बुलाया गया था लेकिन उनको बाहर कई घंटों तक इंतजार कराया गया. प्रथम दृष्‍टतया यहीं से दोनों पक्षों के बीच झड़प शुरू हो गई. 

कांग्रेस की लिस्‍ट
इससे पहले कांग्रेस ने 77 प्रत्‍याशियों की सूची जारी की. उसमें पाटीदार समुदाय के दो नेताओं को टिकट दिया गया. पास का कहना है कि उनकी अनुमति के बिना ही इन दो प्रत्‍याशियों के नामों का चुनाव किया गया. अपुष्‍ट खबरें यह भी है कि पाटीदार इससे ज्‍यादा सीटें मांग रहे थे लेकिन केवल दो नामों के शामिल होने से उनमें नाराजगी बढ़ गई. झड़प के बीच दिनेश पटेल ने कहा कि हम कांग्रेस के खिलाफ सोमवार को प्रदर्शन करेंगे और कांग्रेस को समर्थन के मसले पर पुनर्विचार करेंगे. हम जनता से भी कांग्रेस के समर्थन पर पुनर्विचार के लिए कहेंगे? 

सहमति का फॉर्मूला
हालांकि इससे पहले कांग्रेस की गुजरात इकाई और हार्दिक पटेल की अगुआई वाली पाटीदार अनामत आंदोलन समिति (पास) ने रविवार को कहा कि वे राज्य में कांग्रेस के सत्ता में आने पर पटेलों को आरक्षण देने के मुद्दे पर एक समझौते पर पहुंचे हैं. आरक्षण फॉमूले की बारीकियों और गुजरात विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को समर्थन देने को लेकर 'पास' के रुख के बाबत आधिकारिक घोषणा सोमवार को हार्दिक पटेल राजकोट की इस रैली में करने वाले थे. 

कांग्रेस में असंतोष
इस बीच कांग्रेस की गुजरात इकाई के अध्यक्ष भरत सिंह सोलंकी ने कहा कि वह अगले महीने होने जा रहा राज्य विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे. हालांकि, उन्होंने इन खबरों को खारिज किया कि वह उम्मीदवारों के चयन के मुद्दे पर पार्टी आलाकमान से नाखुश हैं. गुजरात में दो चरणों में नौ व 14 दिसंबर को मतदान होने हैं. इसमें पहले चरण में 19 जिलों के 89 निर्वाचन क्षेत्रों और दूसरे चरण में 14 जिलों के 93 निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान होना है. मतगणना 18 दिसंबर को हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव के साथ की जाएगी.


 

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement