फारूक के फिर बिगड़े बोल, कहा-RSS नहीं चाहती थी भारत आजाद हो

img

जम्मू: विवादास्पद बयानों और फारूक अब्दुल्ला का रिश्ता गहरा होता जा रहा है। नैशनल कान्फ्रेंस प्रमुख ने कहा कि आजादी के समय आरएसएस ने अंग्रेजों से मिलीभगत की थी और नहीं चाहती थी कि भारत आजाद हो। फारूक ने यह भी कहा कि आपातकालीन समय में आरएसएस ने इन्दिरा गांधी का समर्थन किया था। उन्होंने कहा कि संघ धर्म के नाम पर लोगों को बांटने का काम कर रहा है और इसमें भाजपा भी पूरा सहयोग कर रही है।

अब्दुल्ला ने कहा, इतिहास साक्षी है कि जब देश के दिग्गज अंग्रेजों का कहर झेल रहे थे तो उस समय संघ अंग्रेजों के साथ मिल गया था। अब भाजपा राष्ट्रवाद के झूठे और खोखले दावे कर रही है। फारूक ने कहा कि राजेश राव ने अपनी पुस्तक में लिखा है कि संघ प्रमुख ने इन्दिरा गांधी से मिलने की इच्छा जाहिर की थी पर वह नहीं मानीं। आपातकालीन स्थिति में संघ ने इन्दिरा का साथ दिया था और युवाओं को इतिहास की सही जानकारी होनी चाहिए। फारूक ने जम्मू कश्मीर विलय पर बोलते हुए कहा कि राज्य के लोग कुछ ज्यादा नहीं मांग रहे बल्कि वही मांग रहे हैं जो देने का नेहरू ने वादा किया था।

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement