सेकंड वर्ल्ड वॉर के दौरान भारत में लापता हुए 400 अमेरिकी सैनिक, खोज में जुटी जांच एजेंसी

img

ईटानगर: लापता लोगों की तलाश करने वाली अमेरिका की डिफेंस पीओडब्ल्यू/एमआईए अकाउंटिंग एजेंसी (डीपीएए) के जांचकर्ता पूर्वोत्तर में द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद से लापता हुए अमेरिकी सैनिकों के अवशेषों की तलाश के लिए भारत आए हैं. कोलकाता में स्थित अमेरिकी महावाणिज्य दूतावास से जारी विज्ञप्ति के अनुसार, गत वर्ष डीपीएए ने लापता हुए अमेरिकी पायलट के अवशेषों की तलाश के लिए पूर्वोत्तर भारत में 30 दिन के लिए एक टीम भेजी थी और वर्ष 2013 के बाद यह भारत का उनका पांचवां मिशन है. अनुमान के मुताबिक, भारत में 400 अमेरिकी वायुसेना कर्मी लापता हुए थे और ऐसा माना जाता है कि इनमें से ज्यादातर के अवशेष हिमालय में हैं.

इसमें कहा गया है कि द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान अमेरिकी विमानों ने चीनी सेना को वस्तुओं की आपूर्ति करने के लिए हिमालय के ऊपर उड़ान भरी थी. इनमें से कई विमान लापता हो गए थे और वे इस पर्वतीय क्षेत्र में फिर कभी नहीं मिले. वर्ष 2015 और 2016 में डीपीएए मिशनों के दौरान कुछ अवशेष मिले थे और डीएनए जांच के जरिए इनकी पहचान किए जाने की प्रक्रिया चल रही है. वर्ष 2015 में मिले कुछ अवशेष अमेरिकी वायुसेना के फर्स्ट लेफ्टिनेंट रॉबर्ट ई ऑक्सफोर्ड हैं, इसकी पुष्टि हो चुकी है. इस वर्ष भी टीम पूर्वोत्तर में ऐसा ही मिशन चलाएगी और कई अलग-अलग स्थलों का सर्वेक्षण करेगी.

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement