सर्जिकल स्ट्राइक पर जनरल सुहाग ने दिया ऐसा बयान, आप भी करेंगे गर्व!

img

नई दिल्लीः जम्मू-कश्मीर के उरी में 18 सितंबर 2016 की शाम को सेना के कैंप पर हुए आतंकी हमले में 19 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे। इस हमले के बाद पूरे देश में मातम का माहौल था। इस हमले के बाद तत्कालीन सेना प्रमुख दलबीर सिंह सुहाग ने उरी में ही यह तय कर लिया था कि एलओसी के पार सैन्य ऑपरेशन को अंजाम देने की जरूरत है।

जनरल इस बात को लेकर निश्चित थे कि सैनिकों की मौत का बदला लेना है। पाकिस्तान में घुसकर आतंकी कैंप को तबाह करने वाले ऑपरेशन (सर्जिकल स्ट्राइक) के मुद्दे पर जनरल दलबीर सुहाग अब तक कुछ भी बोलने से इनकार करते आए हैं। इस बीच उन्होंने एक चैनल से बातचीत के दौरान सर्जिकल स्ट्राइक पर चुप्पी तोड़ी है। रिटायर्ड जनरल ने इस बात का खुलासा किया कि पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में अंजाम दी गई 2016 की सर्जिकल स्ट्राइक अपने तरह की पहली सैन्य कार्रवाई थी, जिसे राजनीतिक मंजूरी मिली थी। इससे पहले के ऑपेरशन चिन्हित थे और उनके लिए सरकार की सहमति की जरूरत नहीं होती।

बता दें कि जनरल सुहाग पिछले दिसंबर में सेना से रिटायर हुए थे। सहज और चिन्हित स्थानों पर किए गए ऑपरेशन की व्याखा करते हुए सुहाग ने कहा कि पिछले साल हुई सर्जिकल स्ट्राइक की तुलना सेना द्वारा किए गए अन्य ऑपरेशन से नहीं किया जा सकता, क्योंकि उन ऑपरेशन को राजनीतिक सहमति नहीं थी।  

पूर्व आर्मी चीफ ने कहा कि एलओसी के उस पार सर्जिकल स्ट्राइक करने की योजना 2015 में म्यांमार में एनएससीएन (के) को निशाना बनाने के लिए हुई क्रास बॉर्डर कार्रवाई के बाद शुरू हुई। बता दें कि 2015 में एक उग्रवादी हमले में 18 सैनिकों की शहादत के बाद भारतीय सेना का विशेष दस्ता नागा उग्रवादियों को निशाना बनाने के लिए सीमा पार गया था।

सर्जिकल स्ट्राइक को कौन सी चीज अन्य ऑपरेशन्स से अलग करती है के सवाल पर उन्होंने कहा कि इस तरह के ऑपरेशन पहले अंजाम नहीं दिए गए जिसमें एक साथ 250 किलोमीटर के दायरे में कई आतंकी ठिकानों को निशाना बनाया गया हो। सुहाग ने खुलासा किया कि भले ही 18 सितंबर को उरी ब्रिगेड हेडक्वार्टर पर हमला हुआ और इसका सीधा बदला लेने के लिए कार्रवाई की गई, लेकिन सर्जिकल स्ट्राइक करने की योजना बहुत पहले से शुरू हो गई थी।  

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement