बिहार में बाढ़ की स्थिति में सुधार- आपदा प्रबंधन विभाग

img

पटना। बिहार में बाढ़ की स्थिति में गुरुवार को भी सुधार होना जारी रहा। राज्य के बाढ़ प्रभावित इलाके से किसी के हताहत होने की कोई खबर नहीं आयी। आपदा प्रबंधन विभाग की एक विज्ञप्ति में कहा गया कि पानी घटने से कई जगहों पर लोग घर लौटने लगे हैं। बाढ़ प्रभावितों के लिए बनाए गए 8 राहत शिविरों में अभी भी 2887 लोग हैं। बिहार में इस साल बाढ़ से 514 लोगों की जान गयी है।

विभाग के अनुसार पिछले 24 घंटे के दौरान 58 सामुदायिक रसोईघरों में 33297 लोगों को भोजन दिया गया। विभाग के अनुसार आज आरटीजीएस के जरिए बाढ़ प्रभावित 188801 लाभुक परिवारों के बैंक खातों में नगद राशि स्थानांतरित की गयी है। कुल 1048374 लाभुक परिवारों के बैंक खातों में 629 करोड़ 2 लाख 44 हजार रूपये स्थानांतरित किया जा चुका है। गुजरात सरकार के राजस्व, षिक्षा एवं संसदीय कार्य मंत्री भूपेन्द्र सिंह चुडासामा ने गुजरात सरकार की तरफ से बाढ़ पीड़ितों के सहायतार्थ मुख्यमंत्री राहत कोष के लिये पांच करोड़ रूपये का चेक मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को सौंपा।

झारखण्ड सरकार के नगर विकास एवं आवास तथा परिवहन मंत्री चन्द्रेश्वर प्रसाद सिंह ने झारखण्ड सरकार की तरफ से बाढ़ पीड़ितो के सहायतार्थ मुख्यमंत्री राहत कोष के लिये पांच करोड़ रूपये का चेक नीतीश कुमार को सौंपा। छतीसगढ़ सरकार ने आरटीजीएस के माध्यम से मुख्यमंत्री राहत कोष में पांच करोड़ रूपये का अंशदान किया। नीतीश ने मुख्यमंत्री राहत कोष में अंशदान करने के लिये गुजरात, झारखंड और छत्तीसगढ सरकार को धन्यवाद दिया तथा इन राज्यों की सरकारों के इस सामाजिक पहल की सराहना की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि विपदा के समय सभी को अपनी संवेदनशीलता प्रदर्शित करना चाहिये और पीड़ितों की सेवा में बढ़-चढ़कर हाथ बंटाना चाहिये। मुख्यमंत्री सचिवालय स्थित संवाद कक्ष में भूपेन्द्र सिंह चुडासामा एवं चन्द्रेश्वर प्रसाद सिंह द्वारा चेक सौंपे जाने के समय उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी बिहार विधान परिषद के पूर्व सभापति अवधेश नारायण सिंह उपस्थित थे।

गाडेन फोडरैंग ट्रस्ट परम पावन दलाईलामा के कार्यालय की तरफ से मुख्यमंत्री राहत कोष के लिये 11 लाख रूपये का चेक दिया गया है। विधायक सुनील चैधरी ने दो लाख एक हजार रूपये, विधायक रत्नेश सदा, मेवालाल चैधरी एवं वीरेन्द्र कुमार सिंह ने एक-एक लाख रूपये, विधायक जयवर्द्धन यादव ने 51 हजार रूपये, पूर्व विधायक सुनील कुमार ने 51 हजार रूपये, विजन क्लासेज के कन्हैया ने पांच लाख 11 हजार रूपये, बिहार होटल्स लिमिटेड की तरफ से पांच लाख रूपये, एएन कालेज, पटना की तरफ से प्राचार्य एसपी शाही ने 3,92,407 रूपये का चेक मुख्यमंत्री राहत कोष के लिये मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को सौंपा।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री राहत कोष में अंशदान करने के लिये सभी को धन्यवाद दिया तथा उनके इस सामाजिक पहल की सराहना की। मुख्यमंत्री ने कहा कि विपदा के समय सभी को अपनी संवेदनशीलता प्रदर्शित करना चाहिये और पीड़ितों की सेवा में बढ़-चढ़कर हाथ बंटाना चाहिये।

वहीं बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने वर्ष 2008 में कोसी त्रासदी के समय गुजरात की तत्कालीन नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा दिए गए पांच करोड़ रूपये की राशि से जुडा अखबार में एक विज्ञापन छपने से नाराज नीतीश कुमार के उक्त राशि को लौटा दिए जाने की इशारा करते हुए आज कटाक्ष किया कि आज नीतीश जी गुजरात सरकार से 5 करोड़ रूपये का चेक प्राप्त करने के समय वे स्वयं को कितना 'लाचार, कमजोर और टूटा' हुआ महसूस कर रहे होंगे। तेजस्वी ने ट्विट कर नीतीश कुमार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि 2010 में किस अंतरात्मा के कहने पर गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की बाढ सहायता राशि का 5 करोड़ रूपये का चेक नीतीश लौटा दिया था।

Similar Post