डेरा प्रमुख को सुनाई जाएगी सजा, हरियाणा-पंजाब में हाई अलर्ट

img

चंडीगढ़। रोहतक के सुनारिया जेल में सीबीआई अदालत आज डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को सजा सुनाएगी, जिसके बाद उत्पन्न होने वाले किसी भी तरह के हालात से निबटने के लिए कड़े सुरक्षा बंदोबस्त किए गए हैं खासकर संवेदनशील इलाकों में। हरियाणा और पंजाब को आज हाई अलर्ट पर रखा गया है। पुलिस और अर्द्धसैनिक बलों की 23 कंपनियों ने रोहतक के अंदर और बाहर तथा सुनारिया जेल के इर्दगिर्द बहुस्तरीय सुरक्षा घेरा बनाया है। यह जेल शहर की सीमा के बाहरी इलाके में स्थित है। सेना को स्टैंडबाई पर रखा गया है।

पंथ प्रमुख 50 वर्षीय गुरमीत को बीते शुक्रवार को यौन उत्पीड़न के एक मामले में दोषी ठहराए जाने के बाद हालात बेकाबू हो गए थे। ऐसी स्थिति का दोहराव ना हो इसलिए प्रशासन मुस्तैद है। तब हुई हिंसा में पंचकूला में 32 लोग मारे गए थे जबकि सिरसा में छह लोगों की मौत हो गई थी। हिंसा में 260 से अधिक लोग घायल हुए थे। रोहतक के उपायुक्त अतुल कुमार ने कहा कि हिंसा फैलाने वालों पर गोली चलाने में पुलिस नहीं हिचकेगी।

सीबीआई न्यायाधीश जगदीप सिंह को हवाई मार्ग से रोहतक लाया जा रहा है। सजा की घोषणा दोपहर ढाई बजे तक हो सकती है। डीजीपी बीएस संधू ने कहा, 'कानून व्यवस्था को कायम रखना आज हरियाणा पुलिस की पहली प्राथमिकता है।’’ रोहतक रेंज के आईजी नवदीप सिंह विर्क ने बताया कि सुनारिया जेल में विशेष अदालत कक्ष बनाया गया है। विर्क ने कहा, 'न्यायाधीश को विशेष हेलिकॉप्टर के जरिए लाया जाएगा। यह हेलिकॉप्टर रोहतक शहर के बाहरी इलाके में स्थित सुनारिया जेल के निकट हैलीपेड पर उतरेगा।’’

सुरक्षा व्यवस्था के बारे में विर्क ने कहा कि हरियाणा पुलिस किसी भी हालात से निबटने के लिए पूरी तरह से तैयार है और नजदीकी जिलों के पुलिस बल को भी तैनात किया गया है। उन्होंने बताया, 'केंद्र सरकार ने अर्द्धसैनिक बलों की 23 कंपनियां उपलब्ध करवाई हैं। हमारे पास पर्याप्त बल है और हमने उन्हें तैनात किया है। हम दिन रात मुस्तैद हैं और हमें पूरा विश्वास है कि कोई भी अप्रिय घटना नहीं होगी। सेना स्टैंडबाई पर रहेगी।’’ उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाएगा कि किसी भी डेरा अनुयायी को पूरे रोहतक जिले में ना घुसने दिया जा और ना ही जेल के नजदीक उन्हें जाने दिया जाए। इसके लिए पूरे रोहतक जिले में विशेष अवरोधक लगाए गए हैं।

रोहतक रेंज के आईजी नवदीप सिंह विर्क ने बताया, ''पूरे रोहतक जिले में हमने विशेष अवरोधक लगाए हैं। रोहतक और पड़ोसी शहरों में सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए खास इंतजाम भी किए गए हैं। इसके लिए बड़ी संख्या में पुलिस की मौजूदगी के साथ अनेक अवरोधक लगाए गए हैं।’’ रोहतक के उपायुक्त अतुल कुमार ने कहा कि सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं इसलिए लोगों नहीं डरना चाहिए। रोहतक पुलिस रेंज के तहत आने वाले डेरा के दस ‘नाम चर्चा घरों’ को पुलिस ने सील कर दिया है। पूरे हरियाणा में ऐसे कुल 103 केंद्रों पर तलाशी ली गई है।

शुक्रवार को पंचकुला में हिंसा के बाद पंथ प्रमुख के दो करीबियों पर राजद्रोह का मामला दर्ज किया गया है। कुमार ने कहा कि रोहतक में प्रवेश करने वाले हर व्यक्ति की जांच की जाएगी। उन्होंने लोगों से अपील की कि आवश्यक कार्य नहीं हो तो वे जिले में प्रवेश ना करें। जांच के दौरान जो भी व्यक्ति जिले में आने का वाजिब कारण और पहचान पत्र नहीं दिखा पाएगा उसे हिरासत में ले लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा जिले में पहले से लागू है। इसके तहत पांच या अधिक लोगों के एक स्थान पर एकजुट होने और हथियार अथवा बंदूक लाने पर पाबंदी है। सुनारिया जेल की ओर जाने वाले सभी रास्तों को सील कर दिया गया है।

सिरसा में जहां पंथ का मुख्यालय है, वहां कर्फ्यू जारी है। हिंसा के संबंध में पुलिस ने 52 मामले दर्ज किए हैं। हिंसा के दौरान पंचकुला और सिरसा में भारी तबाही मचाई गई थी। इस संबंध में 926 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। हरियाणा में आज स्कूल तथा अन्य शैक्षणिक संस्थान ऐहतियातन बंद रहेंगे। पंजाब के भी कई संवेदनशील जिलों में स्कूल तथा अन्य शैक्षणिक संस्थान बंद रहेंगे।

रेल मंत्रालय ने नयी दिल्ली में एक बयान में कहा कि शनिवार के बाद से हरियाणा और पंजाब में कही से भी हिंसा की कोई खबर नहीं है। दोनों राज्यों में हिंसा की वजह से रेल संचालन बुरी तरह प्रभावित हुआ था जिसे बहाल कर दिया गया है। हालांकि दिल्ली-रोहतक-बठिंडा प्रखंड पर रेल यातायात अभी भी ठप है। राज्य के अधिकारियों की ओर से इस प्रखंड पर सुरक्षा संबंधी मंजूरी अभी नहीं मिली है। दोनों राज्यों में मंगलवार सुबह साढ़े ग्यारह बजे तक मोबाइल इंटरनेट सेवाएं ठप रहेंगी। सिरसा में तब तक डेरा सच्चा सौदा मुख्यालय के परिसर में इंटरनेट लीज लाइनें भी ठप रहेंगी।

इस बीच अधिकारियों ने पंजाब और हरियाणा में उच्च न्यायालय के निर्देशानुसार पंथ की चल और अचल संपत्तियों की पहचान शुरू कर दी है। बैंकों से डेरा के खातों की जानकारी मांगी गई है।

Similar Post