आतंकवाद मुद्दे पर ट्रंप के संकल्प का भारत ने किया स्वागत

img

भारत ने अफगानिस्तान के समक्ष मौजूद चुनौतियों से निपटने के प्रयास तेज करने और आतंकवादियों को पनाहगाह एवं सीमा पार से अन्य प्रकार का सहयोग मुहैया कराए जाने के मुद्दों से निपटने के अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के संकल्प का आज स्वागत किया। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, ‘‘भारत इन चिंताओं एवं उद्देश्यों में साझीदार है।’’ कुमार ने कहा कि भारत अफगानिस्तान में शांति, सुरक्षा, स्थिरता और समृद्धि लाने के अफगानिस्तान सरकार और उसके लोगों के प्रयासों में भी उनका समर्थन देने के लिए प्रतिबद्ध है।

उन्होंने एक बयान में कहा, ‘‘हम अफगानिस्तान के लोगों के साथ हमारी पारंपरिक मित्रता के मद्देनजर उसके पुनर्निर्माण एवं विकास में लगातार उसकी मदद करते रहे हैं। हम इस संबंध में अपने प्रयास जारी रखेंगे। इनमें अन्य देशों के साथ साझीदारी से किए जाने वाले प्रयास भी शामिल होंगे।’’

उल्लेखनीय है कि ट्रंप ने अमेरिका के सबसे लंबे युद्ध को समाप्त करने के लिए अफगानिस्तान से बलों की जल्दबाजी में वापसी से इनकार किया है और पाकिस्तान को चेतावनी दी कि यदि वह आतंकवादी समूहों को पनाहगाह मुहैया कराना जारी रखता है तो उसे इसके परिणाम भुगतने होंगे। ट्रंप ने युद्धग्रस्त देश अफगानिस्तान में शांति स्थापित करने में भारत से और योगदान देने की अपील की है। ट्रंप ने कमांडर इन चीफ के रूप में देश को संबोधित करते हुए दक्षिण एशिया के बारे में अपनी नीति के बारे में बताया और कहा कि इसका ‘‘अहम हिस्सा’’ भारत के साथ रणनीतिक साझीदारी को और विकसित करना है।

Similar Post