लेह पहुंचे राष्ट्रपति कोविंद

img

छह दिन पहले चीन से हुई थी झड़प

नई दिल्लीः राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद अपनी पहली आधिकारिक यात्रा पर सोमवार को लेह पहुंच चुके हैं। उनसे एक दिन पहले सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत लेह के समीप लद्दाख पहुंचे। उनका यह दौरा महत्वपूर्ण माना जा रहा है क्योंकि 15 अगस्त को लद्दाख में ही चीन और भारत की सेनाओं के बीच झड़प हुई थी। रक्षा प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया ने पीटीआई भाषा को बताया कि राष्ट्रपति सोमवार को लद्दाख स्कॉउट्स रेजिमेंटल सेंटर एवं रेजिमेंट की पांच बटालियनों को राष्ट्रपति के ध्वज (प्रेसिडेंशियल कलर्स) प्रदान करेंगे। अधिकारी ने कहा कि इस कार्यक्रम में सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत भी शिरकत करेंगे जो दो दिन की यात्रा पर पहले ही लेह-लद्दाख पहुंच चुके हैं।

कार्यक्रम में शिरकत करने के अलावा जरनल रावत जम्मू कश्मीर के लद्दाख क्षेत्र की स्थिति की समीक्षा भी करेंगे। सेना प्रमुख की यह यात्रा बीते 15 अगस्त को पांगोंग के पास चीनी सेना के कर्मियों की भारतीय सैनिकों से झड़प होने के पांच दिन बाद हो रही है। दोनों पक्षों ने एक-दूसरे पर पथराव किया था जिसमें दोनों ओर के कई सैन्यकर्मी जख्मी हो गए थे। रक्षा सूत्रों ने बताया कि जनरल रावत को चीन के साथ लगती वास्तविक नियंत्रण रेखा की सामान्य सुरक्षा स्थिति और वहां तैनात सैनिकों की संचालन तैयारी के बारे में बताया जाएगा। सूत्रों ने बताया कि वह लद्दाख क्षेत्र में रहने के दौरान अग्रिम इलाकों का दौरा भी कर सकते हैं। वहीं भारत के 14 वें राष्ट्रपति के तौर पर शपथ लेने के बाद दिल्ली से बाहर कोविंद की यह पहली यात्रा है।

Similar Post