चाबहार बंदरगाह 2018 में परिचालन में आएगा- गडकरी

img

नई दिल्ली: भारत-ईरान रिश्तों में मजबूती के बीच सरकार को उम्मीद है कि रणनीतिक चाबहार बंदरगाह 2018 में परिचालन में आ जाएगा. केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग तथा पोत परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने शनिवार को इस बात की जानकारी दी. गडकरी रविवार 5 अगस्त को ईरान के राष्ट्रपति हसन रुहानी के शपथग्रहण समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूत के रूप में शामिल होंगे. गडकरी ने कहा है कि भारत और ईरान के पारंपरिक रिश्ते काफी मजबूत हैं और हम इन्हें और मजबूत बनाने का प्रयास करेंगे.

इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी ने रुहानी को दोबारा राष्ट्रपति चुने जाने पर बधाई दी और दोनों देशों के बीच विशेष रिश्तों को और मजबूत करने की प्रतिबद्धता जताई. अपनी तेहरान यात्रा से पहले गडकरी ने कहा कि, ‘‘ऐतिहासिक रूप से भारत और ईरान के विशेष रिश्ते हैं. हम चाबहार बंदरगाह का विकास करने के इच्छुक हैं और हमें इसका परिचालन एक से डेढ़ साल में शुरू होने की उम्मीद है.’’

गडकरी सिस्तान बलूचिस्तान प्रांत में स्थित चाबहार बंदरगाह के विकास का काम तेजी से करना चाहते हैं. पाकिस्तान से गुजरे बिना भारत के पश्चिमी तट से इस तक पहुंच उपलब्ध होगी. गडकरी की यह यात्रा इस दृष्टि से महत्वपूर्ण है कि भारत ने चाबहार बंदरगाह पर काम की गति को बढ़ाया है और बंदरगाह पर कुछ महत्वपूर्ण उपकरण लगाने के लिए कुछ निविदाओं को अंतिम रूप दिया है.

Similar Post