NIA को मिला गिलानी के हस्ताक्षर वाला कैलेंडर

img

नई दिल्लीः जम्मू-कश्मीर में टेरर फंडिंग के मामले केंद्रीय जांच एजेंसी एनआईए को अहम सुराग हाथ लगे हैं. जांच एजेंसी का कहना है कि इससे अलगाववादी नेताओं का असली चेहरा सामने आ जाएगा. खबर है कि इन सुरागों में अस्थिरता पैदा करने और कश्मीर में बड़ी हिंसा को अंजाम देने की पूरी योजना का कच्चा चिट्ठा है. एजेंसी ने इस मामले में और गहराई से जांच शुरू कर दी है. 

खबर है कि टेरर फंडिग केस में एनआईए को छापेमारी में जो सुराग हाथ लगे हैं उसमें सैयद अली शाह गिलानी के हस्ताक्षर किया हुआ हुर्रियत का कैलेंडर मिला हैं. ये कैलेंडर अलगाववादी अल्ताफ शाह फंटूश के घर से बरामद हुआ है. इस कैलेंडर में कश्मीर में सेना और सुरक्षाबलों के खिलाफ धरना प्रदर्शन कर लोगों को भड़काने की साजिश के सबूत साफ दिखाई देते है. यह कैलेंडर 4 अगस्त 2016 का बताया जा रहा है.

इस कैलेंडर से ये साफ हो जाता है कि कश्मीर में सेना और सुरक्षाबलों पर पथराव और प्रदर्शन कोई त्वरित प्रतिक्रिया नहीं बल्कि सोझी समझी साजिश का नतीजा होती है. इस सबका खाका पहले तैयार कर लिया जाता है. कब क्या करना है, कैसे करना है इसकी पहले से तैयारी होती है.  

जानिए NIA के हाथ लगे हुर्रियत के इस कैलेंडर में क्या-क्या है दर्ज

- 4 अगस्त 2016 का कैलेंडर, कैलेंडर में सेना और सुरक्षाबलों के खिलाफ धरना प्रदर्शन और लोगों को भड़काने की साजिश

- 6 अगस्त 2016 लोगों को लोकल चौक और अलग-अलग जगह पर इकट्ठा होने को कहा गया, धरना प्रदर्शन की अपील 

- 8 अगस्त 2016 श्रीनगर के तरफ जाने वाली सभी सड़कों को ब्लॉक करना और लोगों को ड्यूटी ज्वाइन करने से रोकना और सभी को फोन कर कर के इस बात का दवा बनाना क्यों ऑफिस ना जाए.

- 9 अगस्त 2016 औरतों से अपील कि वह असर से मगरिब तक प्रदर्शन में शामिल हो और जगह-जगह इस्लामिक और आजादी के गाने मस्जिदों से बजाये जाए.

- 10 अगस्त 2016 जम्मू कश्मीर में तैनात सभी सुरक्षाबलों से को लेटर दिया जाए और उसे कहा जाए कि वह यहां से वापस जाएं. 

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement