कैसे घुल गया दिल्ली की हवा में जहर?

img

नई दिल्ली: यह बात तय है कि दिल्ली की हवा बेहद सूक्ष्म कणों से भरी पड़ी है लेकिन क्या इस वजह से यह अपने आप 'जहरीली' हो जाती है? एक अध्ययन में पाया गया है कि दिल्ली की हवा में पाए जाने वाले अत्यधिक सूक्ष्म कण, खासतौर पर पीएम 2.5 और पीएम 10 तुलनात्मक रूप से कम नुकसानदायक रासायनिक घटकों से बने हैं। पिछले दिसंबर में यह अध्ययन करने वाले सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च (एसएएफएआर) के परियोजना निदेशक वैज्ञानिक गुफरान बेग ने कहा कि हवा की विषाक्तता इस बात से तय होती है कि वे कण रासायनिक तौर पर किस चीज से बने हैं।  

'दिल्ली की हवा में विषाक्तता बढ़ी'
एसएएफएआर विश्लेषण के अनुसार, हवा में मौजूद विस्थापित कणों का 7.6 प्रतिशत हिस्सा काले कार्बन से बना है। इसके अलावा सल्फेट कण सात प्रतिशत हैं। इनकी अधिक मात्रा के कारण ही दिल्ली की हवा में विषाक्तता बढ़ी होगी। पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के तहत आने वाली एजेंसी ने पाया है कि इन विस्थापित कणों का सबसे बड़ा हिस्सा लगभग 38 प्रतिशत है और यह हिस्सा एलुमीनियम एवं सिलिकॉन ऑक्साइड्स से बना है, जो की पृथ्वी की परत में मौजूद हैं और काले कार्बन या सल्फेट की तरह हानिकारक नहीं हैं। बेग ने कहा कि जब काला कार्बन या सल्फेट कण की मौजूदगी 15-20 प्रतिशत से ज्यादा हो जाती है तो ये प्रमुख कारकों के तौर पर काम करने लगते हैं। मुंबई में, दिल्ली की तुलना में प्रदूषकों की कुल मात्रा कम है लेकिन काले कार्बन का प्रतिशत वहां ज्यादा है। बेग ने स्थिति को कम करके आंकने के खिलाफ चेतावनी दी है। 

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement