कपिल मिश्रा ने स्पीकर से सीसीटीवी फुटेज जब्त करने के लिए कहा

img

दिल्ली विधानसभा में सदन के बीच में पर्चे उड़ाने वाले दो लोगों को आप के विधायकों द्वारा कथित तौर पर पीटे जाने के एक दिन बाद आम आदमी पार्टी के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा ने आज स्पीकर राम निवास गोयल से अपील की कि वह विधानसभा की सीसीटीवी फुटेज को जब्त कर लें क्योंकि उन्हें सबूत मिटाए जाने का डर है। स्पीकर को लिखे पत्र में मिश्रा ने स्पीकर से यह भी अनुरोध किया कि वह दोनों व्यक्तियों को एक माह के लिए जेल भेजने के अपने फैसले पर पुनर्विचार करें।

पत्र में कहा गया, 'दो आंदोलनकारी दर्शक दीर्घा से भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाते हैं और पर्चे फेंकते हैं। इनमें लिखा होता है कि यह उनका अहिंसक प्रयास है और वे किसी को नुकसान नहीं पहुंचाना चाहते और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल एवं उनके मंत्री से उनके कथित भ्रष्टाचार के लिए नाराज हैं।' मिश्रा ने कहा कि इन दोनों लोगों की पहचान जगदीप राणा और राजन कुमार के रूप में हुई है। इन्हें मार्शलों द्वारा तत्काल बाहर निकाल दिया गया था। राणा ने वर्ष 2013 में आदर्श नगर से विधानसभा चुनाव लड़ा था। उन्होंने कहा, 'इस घटना के बाद कुछ विधायक सदन से बाहर आए और कुछ बाहरी लोगों को विधानसभा के परिसर में बुलवा लिया गया। इसके बाद इन (आरोपी) लोगों को पीटा गया। मैं मांग करता हूं कि विधानसभा की बुधवार की सीसीटीवी फुटेज जब्त की जाए वर्ना सबूत नष्ट हो जाएगा। सबूत की रक्षा करना आपकी जिम्मेदारी है।'

मिश्रा ने यह भी कहा कि इस घटना के दौरान किसी ने एक महिला के साथ भी अभद्रता की। करावल नगर के विधायक मिश्रा ने कहा, 'मैं आपसे (स्पीकर से) अनुरोध करता हूं कि आप दो लोगों को जेल भेजने के अपने फैसले पर पुन: विचार करें। उन्हें सजा दिए जाने से पहले एक बार उनकी सुनवाई होनी चाहिए।' दिल्ली विधानसभा में बुधवार को दो दर्शकों द्वारा पर्चे फेंके जाने और मंत्री का इस्तीफा मांगते हुए नारे लगाए जाने पर भारी ड्रामा देखने को मिला था। इसके बदले में इन दो लोगों को आप के विधायकों द्वारा कथित तौर पर पीटा गया और स्पीकर ने इन्हें एक माह के लिए जेल भेजने की सजा सुना दी। जब इन दो लोगों को दर्शक दीर्घा से नीचे लाया जा रहा था, तब आप के लक्ष्मी नगर से विधायक नितिन त्यागी सदन से बाहर आए। उनके पीछे अन्य विधायक भी आ गए। त्यागी और आप के अन्य विधायक अमानतुल्ला खान ने कथित तौर पर इन दोनों के साथ सदन से बाहर मारपीट की। मिश्रा ने बुधवार को कहा था कि यदि पुलिस न बुलाई जाती तो ये आरोपी मारे जा सकते थे।

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement