शशिकला के राजनीति छोड़ने के फैसले पर अन्नाद्रमुक को संशय

img

चेन्नई, गुरुवार, 04 मार्च 2021। अन्नाद्रमुक नेतृत्व को वी.के. शशिकला के अचानक सक्रिय राजनीति से हटने के फैसले पर संशय है। अन्नाद्रमुक के एक वरिष्ठ नेता ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर आईएएनएस को बताया, "शशिकला धूम-धड़ाके के साथ आई थीं और बंगलुरु से चेन्नई तक वाहनों का काफिला इस बात का सबूत था कि वह राजनीति में कितनी गंभीरता से आना चाहती थीं। अचानक सक्रिय राजनीति छोड़ने का उनका फैसला इस लॉजिक को गलत ठहराता है और मुझे यकीन है कि इसके पीछे कोई चाल है।"

शशिकला और उनके भतीजे टी.टी.वी. दिनाकरन राजनीतिक प्रक्रिया में सक्रिय रूप से शामिल थे और यहां तक कि अन्नाद्रमुक विधायकों के साथ बातचीत कर रहे थे और पार्टी को विभाजित करने की कोशिश कर रहे थे। अचानक हुए निर्णय से यह संकेत मिलता है कि अगर अन्नाद्रमुक के वोट उनकी उपस्थिति के कारण बंट जाते हैं और अगर मोर्चा सत्ता खो देता है, तो शायद यह भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व के साथ अच्छा नहीं जाए। यह सिद्धांत चेन्नई के राजनीतिक हलकों में उनके अचानक फैसले के बारे में सर्कुलेट हो रहा है, क्योंकि शशिकला के खिलाफ कई आर्थिक अपराध के मामले लंबित हैं।

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष एल. मुरुगन ने शशिकला की प्रेस रिलीज के तुरंत बाद उनके फैसले का स्वागत किया था और कहा था कि शशिकला ने उन लोगों का पक्ष नहीं लिया है जो राजनीतिक भ्रम पैदा करके सत्ता हथियाने की कोशिश कर रहे थे। इसे भाजपा के भीतर विचार प्रक्रिया के रूप में देखा जाता है और पार्टी अन्नाद्रमुक के नेतृत्व वाले मोर्चे को राज्य में सत्ता गंवाते नहीं देखना चाहती, जिसका यह हिस्सा है। हालांकि, एक वर्ग ऐसा है, जिसकी राय है कि शशिकला के भतीजे दिनाकरन का राजनीतिक संगठन, अम्मा मक्कल मुनेत्र कड़गम (एएमएमके) थेवर समुदाय के गढ़ में अधिक से अधिक सीटों पर लड़ेगा और इन्हें जीतने की कोशिश करेगा। यह एक शक्ति केंद्र और एक दबाव समूह के रूप में पार्टी को आगे ले जाएगा और अन्नाद्रमुक को सत्ता हासिल करने के लिए इसके समर्थन की जरूरत हो सकती है।

सूत्रों का कहना है कि यह भाजपा को पसंद नहीं था, भले ही वह शशिकला के पक्ष में था और उनके (शशिकला के) समूह के अन्नाद्रमुक के साथ गठबंधन के पक्ष में था, हालांकि मुख्यमंत्री एडाप्पदी के. पलानीस्वामी और उपमुख्यमंत्री ओ.पन्नीरसेल्वम ने इसे स्वीकार नहीं किया था। आरएसएस के विचारक और प्रसिद्ध चार्टर्ड अकाउंटेंट एस.गुरुमूर्ति अन्नाद्रमुक के साथ शशिकला गुट को जोड़ने की कोशिश करते रहे हैं, लेकिन मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री के अड़ियल रुख ने उस मिशन को विफल कर दिया है।

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement