पूर्व सांसद सत्यदेव सिंह का निधन, सीएम योगी ने जताया दुख

img

लखनऊ, गुरुवार, 17 दिसम्बर 2020। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी की विरासत समझी जाने वाली उत्तर प्रदेश की बलरामपुर सीट से सांसद रहे सत्यदेव सिंह का गुरुवार को निधन हो गया। गोंडा निवासी सत्यदेव सिंह की पत्नी और जिला पंचायत अध्यक्ष सरोज रानी सिंह का बीते दिनों लखनऊ में कोरोनावायरस संक्रमण के कारण निधन हो गया था। पूर्व सांसद के निधन पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दु:ख जताया है। मुख्यमंत्री योगी ने लिखा कि, पूर्व सांसद एवं देश के समर्पित नेता श्री सत्यदेव सिंह जी का निधन अत्यंत दु:खद है। उनके निधन से पार्टी ने विचारधारा के प्रति एक समर्पित नेता को खोया है। प्रभु श्रीराम से दिवंगत आत्मा की शांति की कामना करता हूं।

कोरोना संक्रमित सत्यदेव सिंह परिवार के अन्य लोगों के साथ लखनऊ के संजय गांधी पीजीआई में भर्ती थे। वहां पर हालत बिगड़ने पर उनको मेदांता अस्पताल गुरुग्राम में शिफ्ट किया गया था। जहां पर हार्ट अटैक से उनका निधन हो गया। 

गोंडा के सरकुलर रोड निवासी पूर्व सांसद बीते दिनों कोरोना संक्रमण की चपेट में आ गए थे। उन्हें एसजीपीजीआई लखनऊ में भर्ती कराया गया था। जहां पर हालत में सुधार न होने पर उन्हें एयर एंबुलेंस से मेदांता हास्पिटल गुडगांव में शिफ्ट किया गया था। वहां पर वह कोरोना निगेटिव हो गए थे। वह मेदांता अस्पताल में प्राइवेट वार्ड में भर्ती थे। जहां हार्टअटैक से उनकी मौत हो गई। कुछ दिन पहले ही उनकी पत्नी प्रू्व जिला पंचायत अध्यक्ष सरोज रानी सिंह की मौत हो चुकी है।

पूर्व सांसद सत्यदेव सिंह युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष के साथ-साथ प्रदेश उपाध्यक्ष समेत कई महत्वपूर्ण पदों पर रह चुके थे। वह पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी की कोर कमेटी में शामिल रहे। राम मंदिर आंदोलन में भी देवीपाटन मंडल से उनकी महत्वपूर्ण भूमिका रही। भाजपा के जिला मंत्री प्रदीप मिश्र ने बताया कि सत्यदेव सिंह 1977 में पहली बार गोंडा लोकसभा क्षेत्र से जनता पार्टी के टिकट पर सांसद चुने गए। इसके बाद 1991 और 1996 में भाजपा के सदस्य के रूप में बलरामपुर संसदीय सीट से लोकसभा के लिए चुने गए थे। वह 1980 से 1985 तक भारतीय जनता युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी रहे। वर्तमान में लाल बहादुर शास्त्री कालेज में प्रबंध समिति के उपाध्यक्ष भी थे। भाजपा केंद्रीय अनुशासन समिति के सदस्य भी थे। वह पूर्व उपप्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, मनोज सिन्हा व आरएसएस के साथ ही भाजपा के शीर्ष नेताओं के करीबी थे। उनके निधन पर शोक संवेदना व्यक्त करने वालों का तांता लगा हुआ है। 

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement