कृषि और किसानों की समस्याओं के समाधान के लिये नवाचार पर ज्यादा ध्यान देना जरूरी- उपराष्ट्रपति

img

नई दिल्ली, मंगलवार, 18 अगस्त 2020। उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने नवोन्मेष को मानव की प्रगति का महत्वपूर्ण तत्व करार देते हुए मंगलवार को कहा कि मंत्रालयों, शोध संस्थाओं और नवाचार से जुड़े युवाओं को कृषि और किसानों की समस्याओं का समाधान निकालने पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए। नवाचार के लिए संस्थानों को अटल रैंकिंग ऑफ इंस्टीट्यूशंस ऑन इनोवेशन अचीवमेंट्स-2020 पुरस्कार प्रदान करने के कार्यक्रम में उपराष्ट्रपति ने कहा, ‘‘ देश के 52 प्रतिशत से अधिक लोग आज भी कृषि पर आधारित हैं। ऐसे में नवोन्मेष का जोर कृषि क्षेत्र पर होना चाहिए।’’

उन्होंने कहा कि किसानों की समस्याओं पर ध्यान देना आज बेहद जरूरी है। हमें समाचारपत्रों में ऐसी खबरें पढ़ने को मिलती है कि आलू का उत्पादन बढ़ गया, लेकिन कीमतें घट गई, टमाटर का उत्पादन बढ़ा लेकिन कीमतें घटी, प्याज का उत्पादन बढ़ा और कीमतें घट गई। ऐसा इसलिये हैं क्योंकि यह जल्द खराब होने वाली वस्तुएं हैं। नायडू ने कहा कि हमें ऐसे नवाचार करने की जरूरत है ताकि ऐसी वस्तुओं को ज्यादा समय तक भंडारण करके रखा जा सके। किसानों को इस बात की त्वरित जानकारी मिल सके कि विभिन्न इलाकों में उत्पादों की कीमतें क्या है। साथ परिवहन की भी सुदृढ़ प्रणाली विकसित हो।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि कोविड-19 और अन्य परिस्थितियों के बावजूद कृषि क्षेत्र का उत्पादन बढ़ा है, किसान काफी मेहनत कर रहे हैं, लेकिन उनकी समस्याएं भी हैं।  उन्होंने कहा, ‘‘ किसान हमारे देश का आधार है। इसलिये कृपया उनकी समस्याओं पर ध्यान दें। ’’ वेंकैया नायडू ने कहा कि कृषि मंत्रालय, शिक्षा मंत्रालय, खाद्य एवं प्रसंस्करण मंत्रालय तथा अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद मिलकर इस विषय पर खास ध्यान दें। उन्होंने कहा कि नवोन्मेष को जनआंदोलन बनाना वक्त की जरूरत है और इसके लिये उपयुक्म माहौल, ज्ञान आधारित समाज तथा उपयुक्त माहौल प्रदान किये जाने की जरूरत है। उपराष्ट्रपति ने कहा कि नयी राष्ट्रीय शिक्षा नीति में नवोन्मेष पर खास ध्यान दिया गया है। हमारे युवा काफी प्रतिभावान है और उनकी प्रतिभा को प्रोत्साहन प्रदान किये जाने की जरूरत है। समारोह में शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक, शिक्षा राज्य मंत्री संजय धोत्रे एवं अन्य अधिकारी मौजूद थे। 

अटल रैंकिंग ऑफ इंस्टीट्यूशंस ऑन इनोवेशन अचीवमेंट्स-2020 में छह श्रेणियों के तहत पुरस्कार प्रदान किया गया, जिनमें केवल महिलाओं वाले उच्च शिक्षण संस्थानों के लिए एक विशेष श्रेणी भी शामिल है। इस विशेष श्रेणी का उद्देश्य महिलाओं को प्रोत्साहित करना और नवाचार व उद्यमिता के क्षेत्र में लैंगिक समानता लाना है। इसके अलावा अन्य पांच श्रेणियों में केंद्र द्वारा वित्त पोषित संस्थान, राज्य द्वारा वित्त पोषित विश्वविद्यालय, राज्य द्वारावित्त पोषित स्वायत्त संस्थान, निजी / डीम्ड विश्वविद्यालय औरनिजी संस्थान शामिल हैं। एआरआईआईए मानव संसाधन विकास मंत्रालय की एक पहल है, जिसे एआईसीटीई और मंत्रालय के नवाचार प्रकोष्ठ द्वारा लागू किया गया है। इसके तहत देश में छात्रों और संकायों के बीच नवाचार, स्टार्टअप और उद्यमिता विकास से संबंधित संकेतकों के आधार पर उच्च शिक्षा संस्थानों और विश्वविद्यालयों को प्रणालीबद्ध रैंकिंग प्रदान की जाती है।

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement