कोविड-19 से निपटने को लेकर किए गए उपायों का दस्तावेजीकरण करें जिलाधिकारी- दिल्ली सरकार

img

नई दिल्ली, रविवार, 12 जुलाई 2020। दिल्ली सरकार ने सभी जिलाधिकारियों से अपने-अपने क्षेत्रों में कोविड-19 से निपटने के लिए किए गए उपायों का दस्तावेजीकरण करने के लिए कहा है। इसका उद्देश्य संक्रमण को नियंत्रित करने के प्रयासों को दर्शाना है। जिलाधिकारियों से कहा गया है कि वे कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए किए जा रहे उपायों पर अमल करते समय आने वाली कठिनाइयों का भी उल्लेख करें। एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने कहा कि कई जिलों ने जांच, उपचार और निगरानी रखने के उपायों को बेहतर बनाते हुए चिकित्सा के बुनियादी ढांचे का स्तर बढ़ाने के लिए प्रभावी कदम उठाए हैं। उदाहरण के लिए, दक्षिण दिल्ली जिला प्रशासन ने राधा स्वामी सत्संग ब्यास में 10,000 बिस्तरों का सरदार पटेल कोविड देखभाल केंद्र स्थापित किया है, जो कोविड-19 के मरीजों के लिए बनाए गए दुनिया के सबसे बड़े स्वास्थ्य सुविधा केंद्रों में शामिल है।

इस केंद्र को स्थापित करने के लिए इसने कई एजेंसियों से संपर्क किया। इसी तरह, पूर्वी दिल्ली में राष्ट्रमंडल खेल गांव में 500 बिस्तरों वाला कोविड देखभाल केंद्र बनाया गया। इसके अलावा, उत्तर पश्चिम जिले में रेलवे कोच को कोविड-19 रोगियों के लिए पृथक-वास वार्ड में बदला गया है। कई जिलों में होटलों को कोविड देखभाल केंद्र में परिवर्तित कर दिया गया। अधिकारियों ने कहा, जिलाधिकारियों द्वारा किए गए ऐसे सभी उपायों का दस्तावेजीकरण करने की आवश्यकता थी ताकि इनका विवरण रहे।”

एक अधिकारी ने पीटीआई-को बताया, सभी जिलाधिकारियों को कोविड​​-19 स्थिति से निपटने के लिए उनके द्वारा शुरू की गई इन पहलों का उचित दस्तावेजीकरण करने के लिए कहा गया है। उन्होंने कहा कि हालांकि इस तरह के दस्तावेज तैयार करने के लिए जिलाधिकारियों को कोई समय सीमा नहीं दी गई है, लेकिन उन्हें जल्द से जल्द इसे दिखाने के लिए कहा गया है।

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement