भाजपा सांसद का आरोप, कोरोना के मामले छुपाने की कोशिश कर रही है महाराष्ट्र सरकार

img

औरंगाबाद, शुक्रवार, 12 जून 2020। राज्यसभा के सदस्य एवं भाजपा नेता डॉ. भागवत कराड ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि महाराष्ट्र सरकार जिले में कम जांच करके औरंगाबाद में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों की असल तस्वीर छुपाने की कोशिश कर रही है। सांसद ने औरंगाबाद में संक्रमण के बारे मेंदावा किया कि जिले में जांच क्षमता का पूरा इस्तेमाल नहीं किया जा रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘पहले एक व्यक्ति के संक्रमित पाए जाने पर कम से कम 80 से 90 संदिग्ध मरीजों की जांच की जाती थी। इस रणनीति ने औरंगाबाद में कोरोना वायरस मामलों को नियंत्रित करने में मदद की थी।’’

Dr. Bhagwat Karad (Rajya Sabha Member)@BhagwatKarad

भागवत कराड यांच्यातर्फे शेतकऱ्यांना मोफत बीयाणे वाटप @Dev_Fadnavis @bjp_aurangabad @Pankajamunde @AmitShah @save_atul @PMOIndian @JPNadda @ChDadaPatil @Aurangabad_Page @BJP4India @BJP4Maharashtra

18

1:57 pm - 11 जून 2020

Twitter Ads की जानकारी और गोपनीयता

कराड ने आरोप लगाया कि हालांकि जिले में जांच की पर्याप्त सुविधा है, लेकिन उसका पूरा इस्तेमाल नहीं किया जा रहा है। उन्होंने दावा किया कि राज्य सरकार औरंगाबाद में कम जांच करके कोरोना वायरस के मामलों की असल संख्या छुपाने की कोशिश कर रही है। भाजपा नेता ने आरोप लगाया कि जिले की पृथक-वास सुविधाओं का भी पूरी तरह इस्तेमाल नहीं किया गया था। उन्होंने कहा, ‘‘यदि प्रशासन का दावा है कि जिले में 7,000 से 9,000 लोगों को पृथक-वास केंद्रों में रखा जा सकता है, तो संक्रमित लोगों के संपर्क में आने वाले लोगों को घर में पृथक-वास में क्यों रखा गया है?’’ कराड ने कहा कि यदि बिना लक्षण वाले संक्रमित लोगों और संदिग्धों की आक्रामक तरीके से जांच की जाए और उन्हें केंद्रों में पृथक-वास में रखा जाए तो हालात काबू में किए जा सकते हैं। 

इस बीच, पूर्व मंत्री एवं औरंगाबाद से भाजपा विधायक अतुल सावे ने कहा कि शहर के अस्पतालों को कोविड-19 के मरीजों के उपचार के लिए चिह्नित किया जाए। सावे ने दावा किया कि मौजूदा स्वास्थ्य संकट के बीच औरंगाबाद में चिकित्सकों को दिया जा रहा वेतन मुंबई में उनके समकक्षों को दिए जा रहे वेतन से बहुत कम है। उन्होंने कहा कि पूरे राज्य में चिकित्सकीय पेशेवरों का वेतन समान होना चाहिए, तभी और चिकित्सक इस वैश्विक महामारी के बीच काम करने के इच्छुक होंगे। एक जिला अधिकारी ने बताया कि औरंगाबाद में शुक्रवार सुबह तक कोरोना वायरस संक्रमण के2,524 मामले सामने आ चुके हैं, जिनमें से 1,363लोग स्वस्थ हो चुके हैं और 128 लोगों की मौत हो चुकी है।

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement