हरीश रावत का सवाल, उत्तराखंड की स्थायी राजधानी कहां है

img

देहरादून, मंगलवार, 09 जून 2020। उत्तराखंड सरकार द्वारा चमोली जिले के गैरसैंण को राज्य की ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाए जाने के बाद कांग्रेस महासचिव हरीश रावत ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से प्रदेश की स्थायी राजधानी बताने को कहा है। गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाये जाने की अधिसूचना जारी होने पर सोशल मीडिया पर मुख्यमंत्री रावत को बधाई देते हुए उन्होंने यह सवाल पूछा। उन्होंने कहा,‘‘ मैं त्रिवेंद्र सिंह जी को बधाई दूंगा कि उन्होंने भराड़ीसैंण (गैरसैंण) को उत्तराखंड की ग्रीष्मकालीन राजधानी अधिसूचित कर दिया है। मगर उनसे इतना जरूर पूछना चाहूंगा कि यदि यह ग्रीष्मकालीन राजधानी है और देहरादून अस्थाई राजधानी है तो फिर राज्य की स्थाई राजधानी कहां है?’’

Harish Rawat@harishrawatcmuk

अब #PPE किट्स की उपलब्धता बढ़ गई है। कई ऐसे #कोरोना के खिलाफ फ्रंट #वारियर्स हैं, जो सामाजिक सुविधाओं को लोगों तक पहुंचा रहे हैं और आवश्यक है, जैसे #सस्ते_गल्ले की दुकान है, उनको भी PPE किट्स मिलनी चाहिये, उनको वही संरक्षण मिलना चाहिये, जो ऐसे समकक्षी दूसरे व्यवसायों और

157

11:35 am - 9 जून 2020

Twitter Ads की जानकारी और गोपनीयता

रावत ने कहा कि केंद्र सरकार ने राज्य बनाते वक्त देहरादून को अस्थाई राजधानी बताया था तो अब यह एक यक्ष प्रश्न है कि राज्य की राजधानी कहां है? इस वर्ष चार मार्च को गैरसैंण में आयोजित बजट सत्र के दौरान मुख्यमंत्री रावत ने इसे ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने की घोषणा की थी। राज्यपाल की स्वीकृति मिलने के बाद कल सोमवार को गैरसैंण को प्रदेश की ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने की अधिसूचना जारी कर दी गयी। गैरसैंण को प्रदेश की राजधानी बनाए जाने का मुद्दा राज्य निर्माण के बाद से ही चर्चा में रहा है। वरिष्ठ कांग्रेस नेता धीरेंद्र प्रताप ने गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने को छलावा बताते हुए कहा,‘‘ जब तक गैरसैंण को उत्तराखंड की राजधानी नहीं बना दिया जाता हम अंतिम दम तक लड़ाई लड़ेंगे।’’ उधर, सत्ताधारी भाजपा ने गैरसैंण पर अधिसूचना जारी होने पर सभी प्रदेशवासियों को बधाई देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री रावत ने गैरसैंण के विधानसभा सत्र में की गयी घोषणा को मूर्त रूप दे दिया है। 

प्रदेश भाजपा के मुख्य प्रवक्ता मुन्ना सिंह चौहान ने कहा, ‘‘त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार ने साबित कर दिया है कि उनकी सरकार जैसा कहती है, वैसा ही करती भी है।’’ यहां जारी एक बयान में उन्होंने कहा कि गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने से उत्तराखंड के पर्वतीय क्षेत्रों में विकास का नया वातावरण बनेगा और राजकाज की दृष्टि से महत्वपूर्ण पदों पर बैठे हुए लोगों को पर्वतीय क्षेत्रों की विकास संबंधी मूलभूत आवश्यकताओं को समझने में मदद मिलेगी। 

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement