बिना हाथ का क्रिकेट स्टार, देखने वाले हो जाते है हैरान!

img

जम्मू। इंसान में कुछ करने का जज्बा होतो फिर वो असंभव कार्य को संभव बना सकता है। ऐसा ही जज्बा जम्मू के आमीर में देखने को मिला। आमीर के हौसंले इतने बुलंद है कि दोनों हाथ नहीं होने के बाद भी वो क्रिकेट खेलता है। इंसान को अगर छोटी सी चोट भी लग जाती है तो वो तडप उठता है वहीं ऐसे में आमिर बिना हाथों के हैरान कर देने वाले कारनामें करता है।  आमिर के दोनों हाथ नहीं हैं, फिर भी न सिर्फ आक्रामक बल्लेबाजी करते हैं, बल्कि पैरों से गेंदबाजी कर बैट्समैन के छक्के छुड़ा देते हैं।

जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग के रहने वाले 26 साल के आमिर हुसैन की इन्हीं खूबियों की बदौलत उनका भारतीय पैरा क्रिकेट टीम में चयन हुआ है। बांग्लादेश सीरीज से पहले रांची के एक स्कूल में पैरा क्रिकेट टीम का कैंप लगा, जिसमें जब लोगों ने आमिर को गर्दन में बैट फंसाकर बल्लेबाजी और पैरों से गेंदबाजी करते देखा, तो सभी दंग रह गए। 

आमिर हुसैन के क्रिकेटर बनने की कहानी भी बेहद दिलचस्प है। आमिर के मुताबिक जब वह छह-सात साल का था तो उसका जैकेट आरा मशीन में फंस गया और उसके दोनों हाथ काटने पड़े। जिंदगी असहाय लगने लगी। इसी बीच उसे क्रिकेट खेलने का शौक चढ़ा और बेलचा को बैट बनाकर दादी से बॉल फिंकवाता था। बतौर आमिर उसके खेल को देखकर गांव के ही एक शख्स ने उसे दिव्यांग टीम में शामिल कर लिया। यहीं से उसके क्रिकेट का सफर शुरू हुआ।

कुछ साल बाद वह जम्मू-कश्मीर दिव्यांग टीम का कप्तान बन गया। इसी दौरान भारतीय पैरा फेडरेशन ने संपर्क साधा और वह दिल्ली आ गया. दिल्ली के साथ ही पंजाब, हरियाणा और लखनऊ में भी खेला। उसके परफॉर्मेंस को देखकर भारतीय पैरा टीम में उसका सेलेक्शन हुआ। और अब वह भारत के लिए खेलने को तैयार है। आमिर के माने तो यह सफलता उसके जीवन की सबसे बड़ी सफलता है कि वह देश के लिए खेल रहा है। 

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement