घरेलू निवेशकों की मदद को 'यूपी इन्वेस्ट एजेंसी' स्थापित करेगी योगी सरकार

img

लखनऊ, रविवार, 31 मई 2020। राज्य में उद्योगों और व्यवसायों की स्थापना में घरेलू निवेशकों की मदद करने के लिए, योगी आदित्यनाथ सरकार 'उद्योग बंधु' के तहत एक 'यूपी इन्वेस्ट एजेंसी' की स्थापना करेगी। एजेंसी निवेशकों की सहायता करेगी, जब वे इसके लिए सरकार से संपर्क करेंगे। इस एजेंसी का फोकस स्थलों की पहचान करने, मंजूरी दिलाने और अन्य समस्याओं से निपटने में निवेशकों की सहायता करने पर होगा।  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निकाय को एक प्रमुख पद दिया है और इसकी संरचना को अंतिम रूप देने के लिए कैबिनेट की मंजूरी का इंतजार है।

उत्तर प्रदेश के उद्योग मंत्री सतीश महाना ने कहा, "उत्तर प्रदेश विदेशी और घरेलू दोनों तरह के निवेशकों को आमंत्रित करके राज्य में निवेश बढ़ाने के लिए कमर कस रहा है। इस महीने के शुरू में, हमने तीन देशों के लिए हेल्प डेस्क की स्थापना की थी। यूपी इन्वेस्ट एजेंसी विशेष रूप से घरेलू निवेशकों के लिए समर्पित होगी।" एजेंसी उद्योग बंधु के तहत काम करेगी और प्रत्येक निवेशक को एक समर्पित अधिकारी दिया जाएगा, जो निवेशक द्वारा सरकरा से संपर्क करने के दौरान और जब उद्योग की स्थापना होगी, उस दौरान सुचारु रूप से ट्रांजिशन सुनिश्चित करेगा। एजेंसी तेजी से निवेश पर भी फोकस करेगी, जिसके लिए सरकार ने 2018 इन्वेस्टर्स समिट के दौरान समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए थे।

मंत्री ने कहा कि सरकार ने 4.28 लाख करोड़ रुपये से अधिक के एमओयू पर हस्ताक्षर किए थे और 1.20 लाख करोड़ रुपये से अधिक की परियोजनाएं शुरू की थी। इन दो वर्षों में कई अन्य परियोजनाएं भी शुरू की गई हैं। एजेंसी अब निवेशकों के साथ संपर्क करेगी, जिनके साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए थे और देखेगी कि परियोजनाएं लंबित क्यों हैं। यदि उन्हें किसी भी सहायता की आवश्यकता होती है, तो एजेंसी उनकी मदद करेगी।  मई की शुरुआत में, सरकार ने दक्षिण कोरिया, जापान और उत्तर प्रदेश के निवेशकों के साथ बातचीत करने और समाधान प्रदान करने के लिए उद्योग बंधु में चार सदस्यीय हेल्प डेस्क की स्थापना की।

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement