शरजील मामला: सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली, यूपी और असम सरकार को जारी किया नोटिस

img

नई दिल्ली, मंगलवार, 26 मई 2020। उच्चतम न्यायालय ने मंगलवार को शरजील इमाम की याचिका पर सुनवाई की। इस दौरान सॉलिसिटर जनरल ने अदालत से अपना जवाब दाखिल करने के लिए और समय मांगा है। वहीं, अदालत ने याचिका पर न केवल दिल्ली बल्कि उत्तर प्रदेश और असम सरकार को भी नोटिस जारी किया है। मामले की अगली सुनवाई एक हफ्ते बाद होगी। शरजील पर पिछले साल दिसंबर में दिल्ली के जामिया में दंगा भड़काने और देश विरोधी भाषण देने का आरोप है। याचिका में उसने अपने खिलाफ विभिन्न राज्यों में दर्ज एफआईआर को एक साथ टैग करने और एक ही जांच एजेंसी द्वारा जांच करने की अपील की है। 

अदालत में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने जवाब दाखिल करने के लिए और समय की मांग की। उन्होंने कहा कि आरोपी इमाम के खिलाफ विभिन्न राज्यों में मामले दर्ज हैं। मेहता का कहना है कि वह मामले से संबंधित जवाब कल तक दाखिल कर देंगे और शीर्ष अदालत का केवल दिल्ली सरकार को नोटिस जारी करना पर्याप्त नहीं है। सभी पार्टियों को नोटिस जारी करना चाहिए। इसके बाद सर्वोच्च अदालत ने दिल्ली के अलावा उत्तर प्रदेश, असम सरकार और अन्य को नोटिस जारी किया है। शरजील ने अपने खिलाफ दर्ज मामलों को एक साथ टैग करने की याचिका दाखिल की है। अदालत ने दिल्ली सरकार को एक हफ्ते से ज्यादा का समय दिया है ताकि वह विस्तृत जवाब दाखिल कर सके। मामले की अगली सुनवाई एक हफ्ते बाद होगी। हालांकि अदालत ने कोई तिथि तय नहीं की है।

ANI@ANI

Solicitor General (SG) Tushar Mehta seeks more time to file reply by saying that the accused Sharjeel Imam, is facing charges in several states. SG said, he will file reply tomorrow & added that SC should issue notice to all the parties, notice only to NCT of Delhi not enough. https://twitter.com/ANI/status/1265180820156760064 …

ANI@ANI

Supreme Court is hearing the petition filed by Sharjeel Imam (who was arrested for giving seditious speech & abetting riots in Jamia in December 2019) to get all FIRs filed against him tagged and probed by a single investigating agency.

172

12:52 PM - May 26, 2020

Twitter Ads info and privacy

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement