गुजरात में 105 नये मामलों के साथ राज्य में कोरोना मरीजों की संख्या 871 हुई, 36 की मौत

img

अहमदाबाद, गुरुवार, 16 अप्रैल 2020। गुजरात में कोरोना वायरस के 105 नए मामले सामने आने के बाद राज्य में संक्रमित लोगों की संख्या बृहस्पतिवार को 871 हो गई। राज्य की प्रमुख सचिव (स्वास्थ्य) जयंती रवि ने बताया कि गुजरात में इस अवधि के दौरान तीन कोरोना वायरस संक्रमितों की मौत हुई जिससे राज्य में कोविड-19 से मरने वालों की संख्या 36 हो गई है। उन्होंने बताया कि अब तक 64 मरीज संक्रमण मुक्त हो चुके हैं और उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। 

Press Trust of India@PTI_News

105 new COVID-19 cases in Gujarat; state tally mounts to 871: Health official

490

11:43 am - 16 अप्रैल 2020

Twitter Ads की जानकारी और गोपनीयता

रवि ने बताया कि बुधवार रात से बृहस्पतिवार सुबह तक 12 घंटे की अवधि में सामने आए 105 नये मामलों में 42 संक्रमित अकेले अहमदाबाद से हैं जबकि 35 नये संक्रमित सूरत के हैं। उन्होंने बताया कि इनके अलावा आणंद जिले में आठ, वडोदरा जिले में छह, बनासकांठा और नर्मदा जिले में चार-चार, राजकोट जिले में तीन और गांधीनगर, खेड़ा एवं पंचमहल जिले में एक-एक मामला सामने आया है। रवि ने बताया कि अधिक मामले इसलिए आ रहे हैं क्योंकि चिह्नित अत्याधिक संक्रमित स्थानों पर गहन निगरानी और जांच की जा रही हैं। इनमें पुराने अहमदाबाद के वे इलाके भी शामिल है जहां पर 21 मार्च से कर्फ्य लागू है। राज्य की प्रमुख सचिव (स्वास्थ्य) ने बताया कि जिन लोगों की गत 12 घंटे में मौत हुई है उनमें कच्छ के रहने वाले 62 वर्षीय पुरुष, बोटाड निवासी 80 वर्षीय पुरुष और अहमदाबाद की 60 वर्षीय महिला शामिल है। 

उन्होंने बताया कि अहमदाबाद में गत 12 घंटे में सबसे अधिक मामलेअत्याधिक संक्रमित स्थान के रूप में चिह्नित जुहापुरा, जमालपुर, बेहरामपुरा, दानलीमाडा, बोडकदेव, गोमतीपुर और मेघनीनगर से आए हैं। रवि ने बताया कि गुजरात के 33 जिलों में से 10 जिले ऐसे हैं जहां कोरोना वायरस से संक्रमण का एक भी मामला सामने नहीं आया है। उन्होंने बताया कि राज्य में संक्रमित पाए गए 871 मामलों में अधिकतर पांच जिलों- अहमदाबाद (492), वडोदरा (127), सूरत (86), राजकोट (27), भावनगर (26)- से हैं। राज्य सरकार द्वारा संक्रमण को रोकने के लिए किए गए उपायों की जानकारी देते हुए रवि ने बताया कि प्रशासन ने कोरोना वायरस संक्रमितों की पहचान करने के लिए अब तक 20,204 लोगों की जांच की है। उन्होंने बताया कि प्रत्येक 10 लाख लोगों में 267 लोगों की जांच की गई है जो राष्ट्रीय औसत 177 प्रति दस लाख से कहीं अधिक है।

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement