लॉकडाउन में गरीबों को राहत के लिये कारगर उपाय घोषित करे सरकार- येचुरी

img

नई दिल्ली, बुधवार, 25 मार्च 2020। माकपा ने कोरोना वायरस के संकट के मद्देनजर पूरे देश में तीन सप्ताह के लिये घोषित बंद (लॉकडाउन) के दौरान गरीबों की मदद के लिये सरकार द्वारा कारगर उपायों की घोषणा नहीं किये जाने पर निराशा प्रकट करते हुये जरूरतमंद लोगों को राहत के लिये कार्ययोजना घोषित करने की मांग की है। माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को देशव्यापी लॉकडाउन की घोषणा की लेकिन संकट की इस घड़ी में गरीबों की मदद के लिये किसी प्रकार की सहायता योजना का जिक्र नहीं किया, यह दुखद है। उन्होंने मंगलवार को प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर कहा, ‘‘गरीबों और जरूरतमंदों की मदद के लिये कोई घोषणा नहीं किया जाना बेहद दुखद है।’’

Sitaram Yechury@SitaramYechury

Open Letter to PM: Disappointed that no measures or relief announced for those who need the maximum support. #COVID19 Full text: https://www.facebook.com/1731087363786831/posts/2672693132959578/?d=n …

571

1:48 am - 25 मार्च 2020

Twitter Ads की जानकारी और गोपनीयता

उल्लेखनीय है कि देश में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिये प्रधानमंत्री मोदी ने मंगलवार को पूरे देश में 21 दिन के लॉकडाउन की घोषणा की थी। इसके लिये उन्होंने देशवासियों से पूरी तरह से घरों में रहने की अपील की जिससे इस घातक वायरस के संक्रमण की श्रंखला को तोड़ा जा सके। येचुरी ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान होने वाली परेशानियों से राहत के लिये जिन्हें तत्काल मदद की दरकार है, उनके लिये सरकार ने कोई कारगर घोषणा नहीं की है। येचुरी ने पत्र में महात्मा गांधी के उस जंतर का भी जिक्र किया जिसमें उन्होंने कहा था कि ‘‘कोई भी काम करने से पहले उस व्यक्ति का चेहरा याद करके खुद से यह सवाल पूछो कि जो कदम आप उठाने जा रहे हैं, उससे क्या उस व्यक्ति का कोई लाभ होगा जिसे आपने अपने जीवन में सर्वाधिक निर्धन और कमजोर व्यक्ति के रूप में देखा है।’’ 

उन्होंने कहा कि सरकार ने गांधी जी के इस जंतर की भावना के अनुरूप कोई काम नहीं किया। अचानक घोषित किये गये लॉकडाउन के दौरान सरकार ने कम आय वर्ग वाले उन लोगों की मदद के लिये कुछ नहीं किया जो रोजी-रोटी की खातिर दूसरे शहरों में रह रहे हैं। माकपा नेता ने कहा कि इनमें से अधिकांश लोग अब भोजन और अन्य मूलभूत जरूरतों के बिना बीच भंवर में फंस गये है।

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement