देश पहले ही आजाद है तो आजादी के नारे क्यों लगाए जा रहे हैं- रविशंकर प्रसाद

img

नई दिल्ली, गुरुवार, 13 फ़रवरी 2020। केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने आजादी के नारे लगाने वाले प्रदर्शकारियों पर सवाल उठाते हुए कहा कि देश तो पहले ही आजाद है। उन्होंने कहा कि संविधान के अनुच्छेद 19 (1) के तहत देश में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का प्रयोग किया जाता है, लेकिन यह अनुच्छेद हमें इस तरह की आजादी पर समुचित प्रतिबंध की भी याद दिलाता है।

Ravi Shankar Prasad@rsprasad

We hear slogans of Azadi Azadi these days at some places. Azadi from what? The country is free. People criticise the govt. freely. They can elect or vote out anyone. Some of them even gherao Universities and resent against Police also. Then Azadi from what? #TimesNowSummit

1,673

6:58 pm - 12 फ़र॰ 2020

Twitter Ads की जानकारी और गोपनीयता

प्रसाद ने ट्वीट किया,  हम आजकल कुछ जगहों पर  आजादी-आजादी  के नारे सुन रहे हैं। किस से आजादी? लोग खुलकर सरकार की आलोचना करते हैं। वह किसी को चुन सकते हैं या किसी को नकार सकते हैं। उनमें से कुछ विश्वविद्यालयों का घेराव और पुलिस के खिलाफ नाराजगी भी जता चुके हैं। फिर किससे आजादी?  भाजपा के वरिष्ठ नेता ने टाइम्स नाउ समिट को संबोधित करते हुए कहा, आपकी आजादी का आलम यह है कि आप अपने ही विश्वविद्यालय का घेराव करते हैं और पुलिस से भी लड़ते हैं। फिर आपको किससे आजादी चाहिये? इस सवाल पर बहस होनी चाहिये। 

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement