सर्दियों के मौसम में अक्सर थकान और सुस्ती महसूस होती है तो इन उपायों से करे इसे दूर

img

अक्सर देखा गया है की सर्दिया आते ही हमे सुस्ती या थकान सी महसूस होने लगती है इसकी, वजह से लोगों को अपने रोज़मर्रा के काम करने का भी मन नहीं होता . सर्दियों में थके-थके और फूर्ति की कमी वाले लोगों को आपने भी अपने आसपास ज़रूर देखा होगा। यही नहीं, इनको देखकर आपको भी सुस्ती महसूस होती है, है ना? खैर, सुस्ती भगाने के लिए आप सर्दियों में मदद ले सकते हैं आयुर्वेद की। आयुर्वेदिक नुस्खों की मदद से सर्दियों में सुस्ती आपसे दूर रहेगी

ध्यान देने वाली बात ये है की आयुर्वेद को सर्दियों में अपनाना हेल्दी रहने का एक अच्छा तरीका है। अगर, आपको बहुत ज़्यादा थकान या सुस्ती महसूस होती है। तो, इस बात पर ज़रूर ध्यान दें कि आप क्या खा रहे हैं। इस तरह, सुस्ती कम करने में आपकी मदद होगी। आयुर्वेद में भोजन 3 श्रेणियों में बांटा गया है। ये श्रेणियां हैं-तामसिक, राजसिक और सात्विक। तामसिक चीज़ें वो हैं जिन्हें पचने में समय लगता है। ऑयली, हाई फैट वाली, मीट और फास्ट फूड में शामिल चीज़ें तामसिक कैटेगरी में ही रखी जा सकती हैं। तो वहीं, दूध से बनी चीज़ें राजसिक भोजन कही जाती हैं। जबकि पचने में आसान सब्ज़ियां, फल और साग जैसी चीज़ें सात्विक होती हैं।

ऐसे अपनाएं आयुर्वेद : मौसमी फल-सब्ज़ियां अपनी डायट में शामिल करें।चीनी या शक्कर से भरी चीज़ों को अपने भोजन में जितना हो, उतना कम शामिल करें। एयरेटेड ड्रिंक्स,कोला और फास्ट फूड कम खाएं। खासकर, सर्दियों के मौसम में फाइबर युक्त भोजन ज़्यादा खाएं। कच्ची सब्ज़ियां सलाद के तौर पर खाएं। साबुत अनाज और मूंगफली, बादाम और पिस्ता जैसे ड्राई फ्रूट्स को भी अपनी डायट में ज़रूर शामिल करें।

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement