पीएम किसान - 31 मार्च तक आवेदन करने वाले 86 प्रतिशत किसानों को तीनों किश्त जारी

img

जयपुर, शुक्रवार, 08 नवम्बर 2019। राजस्थान देश के उन अग्रणी राज्यों में शामिल हो गया है, जिसने तत्परता के साथ राज्य के किसानों को पीएम किसान सम्मान निधि योजना का लाभ दिलाया है। 1 दिसम्बर, 2018 से 31 मार्च, 2019 तक 30 लाख 11 हजार 468 किसानों का डेटा पीएम किसान पोर्टल पर अपलोड़ किया गया। जिसमें से 28 लाख 25 हजार 824 डेटा केन्द्र ने आधार से प्रमाणित किया है। प्रमाणित डेटा में से 95.92 प्रतिशत यानि कि 27 लाख 10 हजार 747 किसानों के खाते में प्रथम किश्त, 90.52 प्रतिशत अर्थात 25 लाख 58 हजार 51 किसानों के खाते में द्वितीय किश्त तथा 86.67 प्रतिशत यानि कि 24 लाख 49 हजार 409 किसानों के खाते में तृतीय किश्त के रूप में 2-2 हजार रूपये जमा हो चुके है। यह जानकारी रजिस्ट्रार सहकारिता, डॉ. नीरज के. पवन ने शुक्रवार को दी।

उन्होंने बताया कि प्रथम किश्त के लिए 27 लाख 27 हजार 652 किसानों, द्वितीय किश्त के लिए 27 लाख 11 हजार 337 तथा तृतीय किश्त के लिए 24 लाख 55 हजार 490 किसानों के पक्ष में भारत सरकार द्वारा एफटीओ जारी किया जा चुका है। इस प्रकार 31 मार्च तक आवेदन करने वाले 86.69 प्रतिशत किसानों के खातो में तीनों किश्त जमा हो चुकी है। डॉ. पवन ने बताया कि आवेदन करने के 4 माह में सत्यापन पर पहली किश्त, अगले 4 माह में द्वितीय तथा उसके बाद तृतीय किश्त जारी होती है।

रजिस्ट्रार ने बताया कि 1 अप्रैल से 31 जुलाई तक 18 लाख 39 हजार 310 किसानों का डेटा पीएम किसान पोर्टल पर अपलोड़ किया गया। आधार से 16 लाख 10 हजार 790 किसानों को प्रमाणित माना गया जिसमें से 14 लाख 76 हजार 495 किसानों को प्रथम तथा 13 लाख 96 हजार 172 किसानों को द्वितीय किश्त जारी हो चुकी है। इस प्रकार 86.67 प्रतिशत किसानों को दोनों किश्त मिल चुकी है। केन्द्र की ओर से 14 लाख 86 हजार 2 का प्रथम किश्त तथा 14 लाख 71 हजार 347 की द्वितीय किश्त का एफटीओ जारी किया गया है।

डॉ. पवन ने बताया कि 1 अगस्त से 30 नवम्बर तक 7 लाख 65 हजार 621 किसानों का डेटा पीएम किसान पोर्टल पर अपलोड हुआ जिसमें से 6 लाख 73 हजार 502 किसानों को प्रमाणित माना गया । केन्द्र की ओर से 1 लाख 71 हजार 905 किसानों को प्रथम किश्त जारी की गई। उन्होंने बताया कि केन्द्र सरकार द्वारा अब तक तीनो किश्तों के रूप में 2152.57 करोड़ रूपये किसानों के खातों में जमा हो चुके है। उन्होंने बताया कि 20 लाख 45 हजार 901 किसानों के आधार के नाम एवं आवेदन में किये गये नाम में अंतर होने से राशि जारी नही हो रही है। 2 लाख 34 हजार 649 किसानों ने आधार के नाम को पीएम किसान पोर्टल पर आवेदित नाम में सही कर दिया है।

उन्होंने बताया कि द्वितीय किश्त के बाद भारत सरकार स्वयं के स्तर पर किसानों का आधार आधारित प्रमाणन कर रहा है और बिना आधार प्रमाणन के किसानों की किश्त जारी नही हो रही है। राज्य के किसानों द्वारा किये गये आवेदन आधार से ही किये गये है। भारत सरकार ने गाइड लाइन जारी कर आग्रह किया है कि किसानों को आवेदित नाम और आधार कार्ड में उल्लेखित नाम में समानता हो इसके लिए किसान किसी भी ई-मित्र केन्द्र पर जाकर पीएम किसान पोर्टल पर नाम में असमानता को सही कर सकता है।

Similar Post

LIFESTYLE

AUTOMOBILES

Recent Articles

Facebook Like

Subscribe

FLICKER IMAGES

Advertisement